टीटीई दस्ते प्रीमियम ट्रेनों में औचक निरीक्षण नहीं करेंगे

| April 12, 2018

रेलवे बोर्ड ने डिविजनल रेलवे के चल टिकट परीक्षक (टीटीई) दस्तों को प्रीमियम ट्रेनों में औचक निरीक्षण करने का अधिकार देने से इनकार कर दिया है। नौ अप्रैल को जारी आदेश के मुताबिक रेलवे की प्रीमियम ट्रेनें राजधानी एक्सप्रेस, शताब्दी एक्सप्रेस, दुरंतो एक्सप्रेस में रेलवे बोर्ड के केंद्रीय टिकट निरीक्षक दस्ता, जोनल रेलवे के जालसाजी रोधी दस्ता को औचक निरीक्षण का अधिकार होगा।रेल मंत्रलय के अधिकारियों का कहना है कि जोनल रेलवे की लंबे अर्से से मांग रही है कि प्रीमियम ट्रेनों में औचक निरीक्षण करने का अधिकार डिविजनल स्तर के टीटीई दस्ते को मिले। इसके पीछे तर्क दिया गया कि प्रीमियम ट्रेनों में औचक निरीक्षण से रेलवे के राजस्व में काफी इजाफा होगा। वहीं, प्रीमियम ट्रेनों में अनधिकृत यात्र करने वालों पर नकेल सकेगी। सालाना राजस्व का लक्ष्य हासिल करने के लिए जनवरी माह में जोनल रेलवे ने टीसी-टीटीई पर दबाव बनाया कि स्लीपर श्रेणी में बगैर टिकट यात्रियों अथवा जनरल टिकट पर स्पीलर श्रेणी में यात्र कर रहे लोगों से अधिकतम दूरी का किराया और जुर्माना वसूली करें।








रेलवे बोर्ड का नियम है कि अनाधिकृत ढंग से यात्र कर रहे किसी भी यात्री को अगले स्टेशन तक के लिए टिकट जारी कर ट्रेन से उतार देना चाहिए। लेकिन कमाई के चक्कर में जोनल रेलवे ने बोर्ड के नियम का उल्लघंन करना शुरू कर दिया। रेलवे बोर्ड के आदेश के बाद जोनल रेलवे ने उक्त व्यवस्था को समाप्त कर दिया। पर डिविजनल स्तर के टीटीई कर्मियों को प्रीमियम ट्रेनों में औचक निरीक्षण का अधिकार मांगा। पर रेलवे बोर्ड ने 9 अप्रैल को जारी आदेश में इसे खारिज कर दिया।




रेलवे सूत्रों ने बताया कि प्रीमियम ट्रेनों में औचक निरीक्षण करने का अधिकार केवल रेलवे बोर्ड के केंद्रीय टिकट निरीक्षक दस्ते (सीटीसी) व जोनल रेलवे के जालसाजी रोधी दस्ते (एएफएस) को होता है। रेल भवन में सीटीसी में लगभग 45 कर्मी होते हैं जबकि सभी 17 जोनल रेलवे में से प्रत्येक जोन के मुख्यालय में एएफएस के चार से पांच कर्मी होते हैं। सीटीसी और एएफएस के कर्मचारी पीक सीजन में औचक निरीक्षण करते हैं। अथवा किसी ट्रेन में शिकायत मिलने पर जांच करते हैं।




बोर्ड का मानना है कि डिविजनल स्तर टीटीई दस्तों को औचक निरीक्षण का अधिकार देने से प्रीमियम ट्रेनों के यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ेगी। वहीं, प्रीमियम ट्रेनों के टीटीई के काम में बाधा पहुंचेगी।

Source:- Live Hindustan

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.