ट्रेन यूनियन में कार्ड के नाम पर खेल, पदाधिकारी के कार्ड पर सफर कर रहे दूसरे लोग

| April 8, 2018

तीन अप्रैल, रात 12 बजकर 40 मिनट पर ट्रेन नंबर 18239 शिवनाथ एक्सप्रेस रायपुर पहुंची। सूचना मिली, इस ट्रेन के साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे यूनियन के पदाधिकारी के पास पर बने टिकट पर दूसरे पदाधिकारी बिलासपुर से नागपुर तक जा रहे हैं। ऐसे में नईदुनिया की टीम ने पीएनआर नंबर 661-3224904 पर केएस मूर्ति व टी मणि बाबू के नाम टिकट था। लेकिन इसमें टी मणि बाबू के पास पर बने टिकट पर दिलीप साइन एस-वन में बर्थ 13 पर मिले। जैसे ही टीटी ने पूछा तो उसे टिकट पकड़ा दिया गया, पर बाद में उनसे जब वेरीफिकेशन के लिए पास दिखाने को कहा गया तो उन्होंने यूनियन कार्ड दिखाया, जिसे टीटी ने गलत बताया।








लेकिन टीटी यूनियन के पदाधिकारी पर जुर्माना ठोकने से बच निकले, जहां उनकी इसके पूरे वाकए की वीडियो रिकार्डिंग हुई, लेकिन टीटी ने इसे गलत बताया, क्योंकि दिलीप के पास भी सिर्फ कार्ड ही था। टिकट नहीं था, जबकि नियमतः इन पर तत्काल जुर्माने की कार्रवाई होनी थी। बहरहाल सारे वाकए की रिकॉर्डिंग और तस्वीर में पूरा नजारा कैद किया गया।




यूनियन की मीटिंग में मिलता है पास का लाभ

नियम है कि यूनियन की मीटिंग में ही उनके पास का लाभ लेने का प्रावधान है। इसके स्थान पर कोई भी दूसरा यात्रा नहीं कर सकता है। अगर कोई मौके पर पीएनआर में दर्ज नाम का आइडी नहीं दिखा पाता है तो उस पर जुर्माना वसूला जाता है।

दूसरे के कार्ड पर यात्रा करना दंडनीय

वैसे इस प्रकरण पर सीनियर डीसीएम तन्मय मुखोपाध्याय ने बताया कि किसी दूसरे के कार्ड पर कोई और यात्रा नहीं कर सकता है। ऐसा करना दंडनीय है। इसके लिए कड़े नियम हैं, क्योंकि किसी भी यूनियन का पदाधिकारी किसी दूसरे के नाम से यात्रा नहीं कर सकता है।




इनका कहना है

मुझे नहीं मालूम। हां, हमारे यूनियन के केएस मूर्ति और मैंने नागपुर जाने के लिए पास से टिकट कटाए थे, लेकिन मेरी तबीयत खराब हो गई थी, इसलिए नहीं गया। मेरे स्थान पर कौन यात्रा कर रहा था, मुझे नहीं मालूम – टी. मणि बाबू, यूनियन पदाधिकारी

यूनियन के कार्ड पास का दुरुपयोग लंबे समय से किया जा रहा है। ये मामला भी जो प्रकाश में आया है। ये बिल्कुल गलत है, इस पर विभागीय कार्रवाई होनी चाहिए। दिलीप साइन इसी यूनियन के पदाधिकारी हैं। इन्होंने गलत जानकारी दी थी कि नागपुर में यूनियन की बैठक है। नागपुर यूनियन की कोई बैठक नहीं थी – गोपी राव, जोनल प्रवक्ता, साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे बिलासपुर जोन

जांच में टी. मणि बाबू के स्थान पर दूसरा यात्रा कर रहे थे, जिन्होंने टिकट के बदले यूनियन कार्ड में दिखाया। इसमें दिलीप साइन नाम दर्ज था, लेकिन मैं सिर्फ क्रॉस चेक ही कर सकता हूं। लिस्ट में भी टी. मणि बाबू की बर्थ पर बैठे थे। आगे सूचित किया था, उन पर क्या कार्रवाई हुई जानकारी नहीं – एसके सिंह, टीटी, नागपुर

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.