1.5 करोड़ अभ्यर्थियों की ऑनलाइन परीक्षा लेना रेलवे के लिए चुनौती

| April 3, 2018

रेलवे भर्ती बोर्ड को आगामी महीनों में सहायक लोको पायलट व अन्य तकनीशियन पदों और ग्रुप डी पदों पर भर्ती के लिए 1.5…
रेलवे भर्ती बोर्ड को आगामी महीनों में सहायक लोको पायलट व अन्य तकनीशियन पदों और ग्रुप डी पदों पर भर्ती के लिए 1.5 करोड़ से अधिक अभ्यर्थियों के लिए ऑन लाइन परीक्षा का आयोजन करना है। ऐसे समय में जबकि एसएससी परीक्षा, राजस्थान में कांस्टेबल भर्ती परीक्षा और सीबीएसई की स्कूल परीक्षा आदि के पेपर लीक, हैकर्स और नकल के चलते विवादों में आ गई हैं।








रेलवे के लिए आगामी दिनों में ऑन लाइन परीक्षा का आयोजन बड़ी चुनौती है। रेलवे इस परीक्षा को बड़ी चुनौती मानते हुए अब परीक्षा आयोजन से पूर्व अपने वरिष्ठ अधिकारियों से इस परीक्षा को निर्विघ्न आयोजित कराने को लेकर सुझाव मांग रहा है।

इन पदों पर ऑन लाइन आवेदन की प्रक्रिया 31 मार्च को पूरी हो चुकी है। मोटे तौर पर माना जा रहा है कि 1.5 करोड़ से अधिक अभ्यर्थी इन परीक्षाओं में बैठेंगे। लेकिन अभी इन परीक्षाओं के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों का अंतिम आंकड़ा रेलवे जुटाने में लगा है। देशभर में आयोजित होने वाली यह ऑन लाइन परीक्षा अपने आप में एक बड़ी परीक्षा होगी।




परीक्षा हैकर्स से मुक्त रहे और नकल या पेपर लीक जैसी घटनाएं ना हो इसके लिए रेलवे भर्ती बोर्ड ने आला अफसरों से सुझाव मांगे हैं। रेलवे भर्ती बोर्ड ग्रुप डी के 62हजार से अधिक पदों और सहायक लोको पायलट तथा तकनीशियन के 26 हजार से अधिक पदों के लिए ऑनलाइन एग्जाम आयोजित करेगा। लेकिन पिछले दो-तीन महीनों में जिस तरह से ऑनलाइन एग्जाम्स के बारे में घटनाएं हुई हैं उसके बाद बोर्ड ऑनलाइन परीक्षा में अपनी साख को लेकर गंभीर है।

पूर्व में ऑन लाइन परीक्षा ले चुका है रेलवे बोर्ड

रेलवे बोर्ड बोर्ड के सीनियर ऑफिसर विशेषकर उन भर्ती बोर्ड अध्यक्षों से राय ले रहा है जो पूर्व में ऑनलाइन परीक्षाएं आयोजित कर चुके हैं। पूर्व में आयोजित हुई परीक्षाओं में किस तरह की कमियां और खामियां रही थीं। बोर्ड यह भी पता लगा रहा है कि कौन सी एजेंसी हैं जो पेपर्स में गड़बड़ी करवा रही है, ऑनलाइन एग्जाम को किस तरह से हैक किया जा रहा है और पैसे लेकर नकल कराई जा रही है। इन सारे बिंदुओं पर राय मांगी जा रही है।




ऑफलाइन नहीं होगी परीक्षा

रेलवे ने यह तय कर लिया है कि आगामी परीक्षा ऑनलाइन रूप में ही होगी। रेलवे भर्ती बोर्ड पूर्व में ऑनलाइन परीक्षा आयोजन की दिशा में कदम बढ़ा चुका है। ऐसे में अब कदम पीछे नहीं हटाए जाएंगे और परीक्षा ऑफलाइन मोड पर नहीं कराई जाएगी।

55 लाख से अधिक बैठे थे पिछली परीक्षा में

रेलवे भर्ती बोर्ड ने नॉन पॉपुलर केटेगरी ग्रेजुएट लेवल की पिछली परीक्षा ऑनलाइन रूप में आयोजित की थी। 18 हजार 252 पदों के लिए हुई इस भर्ती परीक्षा के पहले चरण में 91 लाख अभ्यर्थियों में से 55 लाख से अधिक अभ्यर्थी परीक्षा देने पहुंचे थे। यह परीक्षा 28 मार्च से 3 मई 2016 तक ली गई थी। 2015 में निकली यह भर्ती करीब 2 साल में 2017 में पूरी हुई थी।

एक करोड़ अधिक अभ्यर्थी बैठेंगे

पिछली परीक्षा के लिए 55 लाख से अधिक अभ्यर्थी बैठे थे, जबकि इस बार यह संख्या करीब 1 करोड़ अधिक होगी।

बिहार, यूपी और एमपी आदि राज्य रहेंगे राडार पर: अधिकांश भर्तियों में जिनमें पेपर लीक या नकल के मामले सामने आए हैं उनमें मुख्य रूप से बिहार उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश के नाम सामने आ रहे हैं। राजस्थान मैं भी कई गिरोह सक्रिय हो गए हैं ऐसे में रेलवे भर्ती बोर्ड बिहार-यूपी मध्य प्रदेश के साथ ही कुछ और राज्यों को भी निशाने पर रखकर सावधानियां बरतेगा

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.