रेलकर्मियों के लिए खुशखबरी – रेलवे में हर काम की समय सीमा तय

| March 27, 2018

रेलवे में हर काम के लिए समय-सीमा का निर्धारण किया गया है। रेलवे बोर्ड ने छुट्टी से लेकर म्युचुअल ट्रांसफर तक हर काम के लिए समय निश्चित किया है। समयपालन के लिए धनबाद रेल मंडल का कार्मिक विभाग कवायद में जुटा है।








कर्मचारियों के किसी तरह की शिकायत का निपटरा हर हाल में 30 दिनों के अंदर कर देना है। अनुकंपा पर नौकरी का दावा करने वाले आश्रितों को 90 दिनों के अंदर हर हाल में बहाल कर लेना है। रिटायर होने वाले कर्मियों को ऑनडेट भुगतान करना है। यदि कर्मचारी ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति मांगी तो 60 दिन के अंदर उनके आवेदन का निपटरा होना चाहिए। म्युचुअल ट्रांसफर या तबादले में अनापत्ति के लिए 15 दिनों की अवधि तय की गई है।




इसी तरह आरआरबी और आरआरसी से चयनित नए कर्मचारियों को 30 दिनों के अंदर कॉल लेटर भेज देना है। सात दिनों के अंदर वेतन अग्रिम और ऋण की अर्जी पर कार्रवाई करनी है। अगले दो महीने के वेतने के दौरान ऋण की राशि खाते में भेजनी है। किसी भी शर्त पर पीएफ की राशि 14 दिनों तक कर्मियों के खाते में पहुंच जानी चाहिए। पीएफ आवेदन मिलते ही उसी दिन इस पर कार्रवाई करके संबंधित कार्यालय को भेजनी है।




उच्च शिक्षा, संपत्ति की खरीद-विक्री, पासपोर्ट या प्रतिनियुक्ति के अर्जियों का निपटरा 14 दिनों में करना है। जबकि विभागीय कार्रवाई का 150 दिन के अंदर निर्धारण करना है। पास-पीटीओ की अर्जियों का निष्पादन उसी दिन करना है। 45 दिनों के अंदर डीए, टीए और सीटीए जैसे दावों का निस्तारण करना है। छुट्टियों के अर्जियों पर आवेदन के दिन ही मंतव्य देना है। हर साल कर्मचारियों की वरीयता सूची जारी करनी है। समय-सीमा का पालन करने के लिए इसे कार्मिक दिशा एप से जोड़ा गया है, ताकि कर्मचारियों को भी इसकी सूचना समय पर मिल सके।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.