रेलवे में 12वीं पास के लिए होगी 3000 टीसी और 1000 गार्ड की भर्ती

| February 21, 2018

सरकार रेल संरक्षा वर्ग में ग्रुप  सी और डी में लगभग 90 हजार रिक्त पदों पर भर्ती की घोषणा के बाद दूसरे चरण में टिकट कलेक्टर (टीसी) और गार्ड की भर्ती करने जा रही है। रेलवे बोर्ड 12 मार्च के बाद 3000 टीसी और एक हजार गार्ड की भर्ती संबंधी अधिसूचना जारी कर सकता है। इसमें 12वीं पास और स्नातक बेरोजगार युवा आवेदन कर सकेंगे जिनके पास आईटीआई नहीं है। संरक्षा वर्ग में आईटीआई अनिवार्य होने के कारण बड़ी संख्या में युवा रेलवे की मेगा भर्ती में आवेदन नहीं कर सके हैं।








रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रेल संरक्षा पदों जैसे ट्रैकमैन, प्वांइटमैन, कीमैन, फीटर, वेल्डर, कारपेंटर आदि के लिए रेलवे बोर्ड ने पहली बार आईटीआई अनिवार्य कर दिया है। इससे बड़ी संख्या में बेरोजगार युवा रेलवे भर्ती के लिए फार्म नहीं भर सके। दूसरे चरण में ग्रुप सी में लगभग 3000 टीसी ( टिकट परीक्षक) और 1000 गार्ड की भर्ती होने जा रही है।




अधिकारी ने बताया कि बुकिंग क्लर्क, पूछताछ व रिजर्वेशन क्लर्क सहित रेलवे अस्पताल में फार्मासिस्ट के पदों पर भर्ती की जाएगी। इसके अलाव ग्रुप सी के कुछ अन्य पदों पर भर्ती की जाएगी। रेलवे में मार्च माह में 6000 से अधिक भर्ती होने की उम्मीद है।
उन्होंने बताया कि संरक्षा वर्ग के लगभग 90,000 पदों के लिए विभिन्न रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) एक करोड़ से अधिक आवेदन आने की उम्मीद है। आवेदन की अंतिम तारीख 12 मार्च है। इसके बाद टीसी, गार्ड, बुकिंग क्लर्क व फार्मासिस्ट के पदों भर्ती की अधिसूचना जारी की जाएगी। जिससे आरआरबी की वेबसाइट पर अधिक भार नहीं पड़े। साथ ही परीक्षा कराने में व्यवहारिक व तकनीकी दिक्कतो का सामना नहीं करना पड़े।




टीटीई की जिम्मेवारियां बढ़ी
रेल मंत्रालय ने आठ जून 2017 को नए नियम जारी करते हुए टीटीई की जिम्मेदारियां बढ़ा दी है। 26 बिंदु वाले नए नियम यात्रियों की सुरक्षा के लिए रात दस बजे से सुबह छह बजे तक कोच के दरवाजे बंद रखना उनकी ड्यूटी में शामिल होगा। रात में ट्रेन स्टेशन पर खड़ी होने पर उन्हें प्लेटफार्म पर उतरना होगा। उनके पास खाली एफआईआर फार्म हमेशा होना चाहिए। जिससे किसी घटना होने पर यात्री की सूचना को उक्त फार्म में दर्ज हो सके और अगले स्टेशन पर वही फार्म एफआईआर में तब्दील हो जाएगा। यात्री की तबीयत खराब होने पर चिकित्सा का इंतजमा करना होगा। कोच अथवा शौचालय को साफ रखवाना कंडक्टर की जिम्मेदारी में शामिल किया गया है।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.