जमालपुर में फिर शुरू हो सकती है SCRA की पढ़ाई! रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने कहा- UPSC से हो रही वार्ता

| February 16, 2018

मुंगेर : जमालपुर पहुंचे रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा है कि जमालपुर के इरिमी में बंद हो चुके स्पेशल क्लास रेलवे अप्रेंटिस की पढ़ाई फिर शुरू हो सकती है. इसके लिए रेल मंत्रालय तैयार है और यूपीएससी से वार्ता चल रही है. इसके साथ ही देश में यात्री ट्रेनों की रफ्तार 160 से 200 किलोमीटर प्रतिघंटा करने का  लक्ष्य निर्धारित किया गया है और इस दिशा में कार्य प्रारंभ हो चुका है. वे इरिमी के स्थापना दिवस समारोह में भाग लेने जमालपुर आये थे.








उन्होंने कहा कि भारतीय रेल में सुधार की प्रक्रिया तेजी से जारी है. रेलवे ने हाई स्पीड ट्रेनों के परिचालन की परियोजना पर काम आरंभ कर दिया है और रेलवे की दशा और दिशा सुधारने के लिए क्रमबद्ध प्राथमिकताएं तय की गयी है. इसके साथ ही दो महीना पूर्व ही अहमदाबाद से मुंबई तक हाई स्पीड ट्रेन परियोजना आरंभ हो चुका है और इसे वर्ष 2022  तक पूरा कर लेने का लक्ष्य रखा गया है. उन्होंने कहा कि चूंकि भारतीय रेल काफी बड़े क्षेत्र में आच्छादित है, इसलिए यह एक लंबी परियोजना है और इस पर काफी काम करना होगा.



चेयरमैन ने कहा कि भारतीय रेल सुधार की दिशा में काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि रेलवे ने ईस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरीडोर के तहत हावड़ा से लुधियाना तक फ्रेट कॉरीडोर का निर्माण कार्य आरंभ कर दिया है. इसके तहत हावड़ा-लुधियाना मालगाड़ी के लिए अलग रेल लाइन बिछायी जा रही है. इस कॉरीडोर के चालू हो जाने के बाद तमाम माल गाड़ियों का परिचालन इस पर शिफ्ट कर दिया जाएगा. इसके कारण यात्री ट्रेनों की रफ्तार भी बढ़ेगी.
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा कि स्पेशल क्लास रेलवे अप्रेंटिश की पढ़ाई फिर शुरू करने के लिए रेल मंत्रालय तैयार है. इस दिशा में संघ लोक सेवा आयोग से बातचीत चल रही है. उम्मीद है कि शीघ्र ही एससीआरए के नये बैच के लिए मार्ग प्रशस्त होगा. विदित हो कि दो वर्ष पूर्व जमालपुर के इरिमी में संचालित एससीआरए की पढ़ाई की नयी नामांकन की प्रक्रिया खत्म कर दी गयी थी. एससीआरए में नामांकन के लिए चयन की प्रक्रिया यूपीएससी के माध्यम से किया जाता है.



रेलवे में हो रही है दुनिया की सबसे बड़ी भर्ती, 90,000 पदों के लिए मंगाए गए आवेदन

नई दिल्ली: देश में साल दर साल बढ़ती बेरोजगारी के बीच रेलवे ने बेरोजगार लोेगों के लिए बड़ी राहत की पेशकश की है. रेलवे ने लोको पायलट और टेक्नीशियन समेत निचले स्तर के करीब 90 हजार पदों के लिए आवेदन मंगाया है. रेल मंत्रालय ने एक बयान में यह जानकारी दी है. बयान में कहा गया कि इन पदों के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 10वीं और आईटीआई का प्रमाणपत्र है.

मंत्रालय ने कहा, ‘‘रेल मंत्रालय ने ‘ग्रुप सी फर्स्ट लेवल और सेकंड लेवल’ के लिए 89,409 पदों पर आवेदन मंगाये हैं. यह विश्व की सबसे बड़ी नियुक्ति प्रक्रियाओं में से एक है.’’ ये आवेदन रेलवे नियुक्ति बोर्ड की वेबसाइट के जरिये मंगाए गए हैं. फर्स्ट लेवल के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 5 मार्च और सेकंड लेवल के लिए अंतिम तिथि 12 मार्च है.

बता दें कि ग्रुप सी सेकंड लेवल के लिए टेक्नीशियन जैसे कि फिटर, क्रेन ड्राइवर, ब्लैकस्मिथ और बढ़ई जैसे पदों के लिए नियुक्ति की जाएगी. वहीं ग्रुप सी फर्स्ट लेवल के लिए ट्रैक मेंटेनर, प्वाइंट मैन, हेल्पर और गेटमैन जैसे पदों के लिए नियुक्ति की जाएगी. ग्रुप सी सेकंड लेवल के लिए 18 से 28 साल तक की उम्र वाले लोग आवेदन कर सकते हैं और ग्रुप सी फर्स्ट लेवल के लिए 18 से 31 साल तक के लोग अप्लाई कर सकते हैं.

सातवें वेतन आयोग के अनुसार सेकंड लेवल कर्मचारियों की पे स्केल 19,900- 63,200 रुपये होगी. वहीं ग्रुप सी फर्स्ट लेवल वालों की पे स्केल 18,000- 56,900 रुपये होगी. अप्रैल और मई 2018 तक इसके लिए परिक्षा कराए जाने की तैयारी है.

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.