अब बिना गार्ड के चलेगी ट्रेन, ट्रायल हुआ शुरू

| February 4, 2018

आने वाले समय में ट्रेन की अंतिम बोगी में गार्ड के स्थान पर यात्री बैठे मिलेंगे। गार्ड का स्थान मशीन ले लेगी। यानी बिना गार्ड के ट्रेन चलेगी। इसका ट्रायल शुरू हो गया है, जो मालगाड़ी पर किया जा रहा है। मुरादाबाद रेल मंडल में भी ट्रायल किया गया है। 1रेल प्रबंधन ट्रेनों में कोच की संख्या बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। स्टेशनों के यार्ड की लूप लाइन का विस्तार नहीं होने से 24 बोगी से अधिक लंबी ट्रेन नहीं चलाई जा सकती है।








यात्रियों के लिए ज्यादा जगह निकलने को रेलवे ने ट्रेनों के पेट्रीकार हटाकर यात्री बोगी लगाने की योजना तैयार की है। साथ ही ई-कैटरिंग शुरू करने जा रहा है। साथ ही गार्ड की बोगी के स्थान पर यात्री बोगी लगाने की योजना है। बिना गार्ड के ट्रेन चलाने के लिए रेलवे ने ‘इंजन आफ टेल ट्रेन’ (ईटीटी) सिस्टम तैयार किया है। सिस्टम अंतिम बोगी की छत पर लगा होगा, जो इंजन से जुड़ा होगा।




उपकरण को जीपीएस व मोबाइल नेटवर्क से जोड़ जाएगा। अंतिम बोगी में लाल व हरी लाइट लगी होगी। स्टेशन मास्टर ट्रेन चलने के लिए सिगनल देगा, तो गार्ड की बोगी की हरी लाइट जल जाएगी। बीच रास्ते में चेन पुलिंग होने या ब्रेक जाम होने पर सिस्टम ही चालक को सूचना भेजेगा और किस बोगी का ब्रेक जाम हुआ है। मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल ने बताया कि नए सिस्टम का फिलहाल दिन में चलने वाली मालगाड़ी में ट्रायल किया जा रहा है। रोजा से मुरादाबाद के बीच एक मालगाड़ी में इस सिस्टम को लगा कर ट्रायल किया गया है। ट्रायल में सफल होने पर पहले चरण में मालगाड़ी में यह सिस्टम लगाने की योजना है

मुरादाबाद : उत्तर रेलवे मुख्यालय के मुख्य संकेत और दूरसंचार अभियंता (सीएसटीई) संजीव कुमार ने पांच स्टेशनों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को कटघर व दलपतपुर स्टेशन को कंप्यूटरीकृत करने के आदेश दिए। अप्रैल से दोनों स्टेशनों से कंप्यूटर के जरिये ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। 1अगले वित्तीय वर्ष में मूंढापांडे से सीबीगंज तक के स्टेशनों पर कंप्यूटरीकृत सिस्टम लगाए जाएंगे। शुक्रवार की सुबह सीएसटीई मुरादाबाद पहुंचे। इसके बाद अधिकारियों के साथ बैठक की।




मुरादाबाद से चन्दौसी तक और कटघर से सीबीगंज तक ट्रेनों का संचालन मैनुअल सिस्टम से किया जाता है। लाइन बदलने व ट्रेनों को सिग्नल देने के लिए केबिन की व्यवस्था है। इस व्यवस्था से ट्रेन दुर्घटनाएं होने की संभावना रहती है। रेलवे ने पुराने सिस्टम को बदलने का काम शुरू कर दिया है। अभी तक मछरिया, कुंदरकी, राजा का सहसपुर स्टेशन में आधुनिक कंप्यूटर सिस्टम लगा दिए गए हैं। 31 मार्च तक कटघर व दलपतपुर स्टेशन के सिस्टम को उच्चीकृत कर कंप्यूटरीकृत किया जाना है।

अगले वित्तीय वर्ष में मूंढापांडे से सीबी गंज के सभी स्टेशनों से मैनुअल सिस्टम हटाकर कंप्यूटर सिस्टम लगाया जाना है। कटघर व दलपतपुर यार्ड का नक्शा तैयार हो गया है, उसके आधार पर काम शुरू कर दें। 1अधिकारियों बैठक करने के बाद सीएसटीई कुंदरकी, मछरिया, राजा का सहसपुर स्टेशन का निरीक्षण किया। शाम को वह दिल्ली लौट गए। >>मुख्यालय के सीएसटीई ने टीम के साथ किया निरीक्षण 1’>>अप्रैल से स्टेशनों पर कंप्यूटर से संचालित होंगी ट्रेनें

Source:- Jagran

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.