CBI nabbed Indian Railway Babu on corruption charges

| January 31, 2018

वेंडरों का मेडिकल सर्टिफिकेट बनवाने के नाम पर रिश्वतखोरी का खेल सामने आने के बाद रेलवे ने बाबू अनिल इंडियन को निलंबित कर दिया। साथ ही उसके खिलाफ मेजर चार्जशीट दाखिल होने के बाद नौकरी से भी निकाला जा सकता है। यह सीबीआइ की जांच पर निर्भर करेगा कि आरोपों की पुष्टि किस आधार पर करती है। फिलहाल शनिवार रात को दस घंटे की पूछताछ के बाद सीबीआइ की टीम उसे अपने साथ लखनऊ ले गई।








सीबीआइ को शिकायत मिली थी कि मेडिकल सर्टीफिकेट बनवाने के नाम पर स्टेशन अधीक्षक दफ्तर में कार्यरत बाबू अनिल इंडियन रिश्वत लेता है। जानकारी होने पर शनिवार शाम पांच बजे सीबीआइ की टीम जंक्शन पहुंची। सूचना थी कि कुछ वेंडर से रिश्वत के रूप में लिए गए 17 हजार रुपयों को अनिल इंडियन ने वीआइपी रूम में रखे फ्रिज में रखवाया था। वहां से चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने उन रुपयों को अनिल इंडियन के कक्ष में रख दिया। सीबीआइ को पुख्ता जानकारी थी इसलिए उन रुपयों को बरामद कर अनिल इंडियन से पूछताछ शुरू कर दी। रात तीन बजे तक तमाम बिंदुओं पर पूछताछ करने के बाद सवा तीन बजे टीम उसे नौचंदी एक्सप्रेस में बैठाकर ले गई। चूंकि अनिल बीमार रहता है इसलिए उसके घर से दवाइयां आदि भी पहले ही मंगवा ली गई थीं।




जांच के बाद होगी बड़ी कार्रवाई

रिश्वतखोरी के आरोप और रुपये बरामद होने की जानकारी के बाद रेलवे के अफसरों ने बाबू अनिल इंडियन को निलंबित कर दिया। अधिकारियों का कहना है कि मेजर चार्जशीट दाखिल होगी। जांच के बाद उसे नौकरी से भी हटाया जा सकता है।

कार्रवाई के बाद एसएस को बुलाया




सीबीआइ टीम अनिल से पूछताछ के बाद रात करीब नौ बजे स्टेशन अधीक्षक को चेतन स्वरूप शर्मा को पूछताछ के लिए बुलाया। इस बारे में स्टेशन अधीक्षक का कहना है कि मेरा दफ्तर होने की वजह से मुझे बुलाया गया। इस प्रकरण से संबंधित किसी अन्य बिंदु पर मुझसे पूछताछ नहीं की गई।

———–

सीबीआइ टीम ने बरेली में कार्यरत बाबू अनिल इंडियन को पकड़ा है। जानकारी मिलने के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया है। जांच के बाद मेजर चार्जशीट दाखिल की जाएगी। जांच पूरी होने के बाद उन्हें नौकरी से हटाया भी जा सकता है।

-एके सिंघल, मंडल रेल प्रबंधक

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.