Railway employees vehemently oppose New Pension System

| January 30, 2018

केंद्र सरकार की न्यू पेंशन स्कीम के विरोध में उत्तर रेलवे मेन्स यूनियन (नरमू) से जुड़े रेल कर्मियों ने स्टेशन परिसर में रैली निकालकर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। केंद्रीय नेतृत्व के आह्वान पर सोमवार को अन्य स्टेशनों पर भी प्रदर्शन किया गया। ऑल इंडिया रेलवे मेन्स फेडरेशन के आह्वान पर नई पेंशन योजना को समाप्त करने को लेकर जन जागरण अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में सोमवार शाम नरमू से जुड़े कर्मचारियों ने शाखा कार्यालय से रैली निकालकर प्रदर्शन किया।








इस दौरान कर्मचारी पूरे स्टेशन परिसर में घूमे। इस मौके पर कर्मचारियों ने नई पेंशन स्कीम रद्द कर पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करने की मांग की। शाखा सचिव राजेंद्र सिंह गुसाईं ने कहा कि पुरानी पेंशन योजना लागू न होने तक धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। इसके अलावा पूर्व में प्रस्तावित न्यूनतम फिटमेंट फामरूला को जल्द से जल्द लागू करने की भी मांग की। उन्होंने कहा कि ज्वाइंट काउंसिल मीटिंग में सहमति के बाद भी रेलवे प्रशासन ने अब तक रनिंग अलाउंस की घोषणा नहीं की है।

बताया कि जिससे लोको पायलट व गार्डस कर्मचारियों में रोष व्याप्त है। 1वक्ताओं ने इस ओर अपनी मांगों पर शीघ्र कार्रवाई नही होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी भी दी। 1प्रदर्शन करने वालों में शाखा अध्यक्ष बीएस राजपूत, सहायक मंडल सचिव उग्रसेन सिंह, अरविंद केशव, नरेश कुमार, लक्ष्मी छाया, नरेश गुरुंग, जगदीश कपरवान, तेजिंदर सिंह, धर्मेद्र कुमार, एसडी डोभाल, गौरव चौहान, गिरीश भट्ट आदि शामिल रहे





कैसे काम करता है एनपीएस जानिए

एनपीएस में जोड़े गए नए उपबंध के अनुसार कोई ग्राहक टियर-1 खाते से दस वर्ष बाद 25 फीसद तक राशि निकाल सकता है। पहली निकासी के बाद पांच-पांच साल के अंतराल पर दो निकासियां और की जा सकती हैं। लेकिन इनका खास मकसद होना चाहिए। दो बातें एनपीएस को अद्वितीय पेंशन स्कीम साबित करती हैं। एक, इसके टियर-1 खाते से निकासी पर अंकुश व दो, अवधि पूरी होने पर कॉर्पस के कुछ हिस्से का एन्यूटी में निवेश।

बुढ़ापे में जब लोगों के पास आय का नियमित स्रोत नहीं रहता, तब पेंशन योजनाएं उन्हें वित्तीय सुरक्षा व स्थायित्व प्रदान करती हैं। रिटायरमेंट प्लान के जरिये आप जीवनशैली के साथ कोई समझौता किए बगैरजिंदगी के बाकी दिन सम्मानजनक तरीके से गुजार सकते हैं। पेंशन स्कीम बचतों को जुटाने व निवेश का ऐसा मौका प्रदान करती हैं, जिनसे एकमुश्त राशि के अलावा नियमित मासिक आय प्राप्त की जा सकती है। इस लिहाज से नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) काफी बेहतर विकल्प है।

एनपीएस ज्वाइन करने पर ग्राहक को एक यूनीक परमानेंट रिटायरमेंट अकाउंट नंबर (प्रान) मिलता है। ग्राहक रिटायरमेंट तक इसमें योगदान करता है। रिटायरमेंट पर ग्राहक कुल जमा राशि का एक हिस्सा एकमुश्त तौर पर निकाल सकता है। बाकी राशि एक एन्यूटी में निवेश करनी होती है, जिससे रिटायरमेंट के बाद मासिक पेंशन मिलती है। ग्राहक की मृत्यु की स्थिति में संपूर्ण राशि उसके द्वारा नामित व्यक्ति को दी जाती है।




फंड का निवेश
एनपीएस के तहत तीन तरह के फंड विकल्प उपलब्ध हैं। इक्विटी, कॉरपोरेट बांड व सरकारी प्रतिभूतियां। ग्राहक के लिए निवेश के दो विकल्प उपलब्ध होते हैं :

1. एक्टिव च्वाइस या सक्रिय चयन : इसके तहत ग्राहक तीन फंडों में से अपने अनुकूल फंड का चयन निवेश के लिए कर सकता है। इक्विटी फंड में अधिकतम 50 फीसद योगदान के निवेश की अनुमति है।

2. ऑटो च्वाइस या स्वत: चयन : इसके तहत तीनों फंडों में ग्राहक की उम्र के आधार पर पूर्व निर्धारित पैटर्न के अनुसार कार्पस का निवेश किया जाता है। कम उम्र की स्थिति में इक्विटी में ज्यादा निवेश होता है। अधिक उम्र होने पर इक्विटी में केवल 10 फीसद निवेश की अनुमति है।

बाजार संबद्ध अन्य पेंशन योजनाओं के मुकाबले एनपीएस में निवेश बहुत सक्रिय तौर पर नहीं होता है। आम तौर पर इसके इक्विटी हिस्से का निवेश इंडेक्स स्टॉक्स या निफ्टी 50 स्टॉक्स में होता है। इसका प्रबंधन निजी व सार्वजनिक क्षेत्र के फंड मैनेजर मिलजुल करते हैं और इसके लिए शुल्क वसूलते हैं।

एनपीएस से आंशिक निकासी
एनपीएस में जोड़े गए नए उपबंध के अनुसार कोई ग्राहक टियर-1 खाते से दस वर्ष बाद 25 फीसद तक राशि निकाल सकता है। पहली निकासी के बाद पांच-पांच साल के अंतराल पर दो निकासी और की जा सकती हैं। लेकिन इनका खास मकसद होना चाहिए। जैसे कि बच्चे की उच्च शिक्षा, उसकी शादी, मकान की खरीद या किसी गंभीर बीमारी का इलाज, वगैरह।

टियर 1 खाते पर कर लाभ

वेतनभोगी वर्ग के लिए :
कर्मचारी के योगदान पर : कर्मचारी को सीधे दो कर लाभ मिलते हैं। वह अपना 10 फीसद तक वेतन (अधिकतम डेढ़ लाख) टियर-1 खाते में निवेश कर सकता है। इस पर आयकर कानून की धारा 80सी व 80 सीसीडी (1) के तहत आयकर से छूट है। इसके अलावा 50 हजार रुपये की राशि और जमा की जा सकती है। यह धारा 80सीसीडी (1बी) के तहत करमुक्त है।

सेवायोजक के योगदान पर : सेवायोजक भी कर्मचारी के एनपीएस खाते में उसके वेतन का दस फीसद तक योगदान कर सकता है। इस पर धारा 80सीसीडी (2) के तहत आयकर से छूट प्राप्त है।

स्वरोजगार वाले पेशेवरों के लिए : स्वरोजगार में लगे पेशेवर भी सकल आय का 10 फीसद (अधिकतम डेढ़ लाख रुपये) तक योगदान एनपीएस में कर सकते हैं। इस पर धारा 80सी व 80सीसीडी (1) के तहत आयकर छूट है। वे 50 हजार रुपये तक अतिरिक्त राशि जमा कर उस पर धारा 80 सीसीडी (1बी) के तहत भी आयकर की छूट प्राप्त कर सकते हैं।
धारा 80सीसीडी (1), 80सीसीडी (1बी) तथा 80सीसीडी (2) के तहत कर लाभ अलग-अलग होते हुए भी एक साथ प्राप्त किए जा सकते हैं।
जहां तक एनपीएस से होने वाली निकासी पर टैक्स का सवाल है तो टियर-1 खाते से धन निकालने पर आयकर लगता है। हालांकि एन्यूटी खरीदने के लिए किए गए निवेश पर कर से छूट है। एनपीएस की मासिक पेंशन को आय माना जाता है और उस पर भी टैक्स लगता है।

टियर 2 खाता
इसमें किए गए निवेश पर कोई कर लाभ नहीं है, जबकि धन निकासी पर कैपिटल गेन्स टैक्स लगता है।

दो बातों में अनूठी है एनपीएस
दो बातें एनपीएस को अद्वितीय पेंशन स्कीम साबित करती हैं। एक, इसके टियर-1 खाते से निकासी पर अंकुश व दो, अवधि पूरी होने पर कॉर्पस के कुछ हिस्से का एन्यूटी में निवेश। लॉक-इन पीरियड होने से ग्राहक रिटायरमेंट से पहले पैसे का उपयोग नहीं कर सकता, जबकि एन्यूटी से पैसे का भुगतान लंबी अवधि में किस्तों पर होता है। इससे रिटायरमेंट के बाद जरूरत भर की आमदनी सुनिश्चित होती है।

म्यूचुअल फंड से कम शुल्क
एनपीएस पर सालाना मात्र 0.5 फीसद का शुल्क है। इसमें फंड प्रबंधन शुल्क, ट्रांजेक्शन कॉस्ट व वार्षिक रखरखाव शुल्क शामिल हैं। केवल पहले साल पंजीकरण, खाता खोलने वगैरह पर एक फीसद राशि खर्च करनी पड़ती है। इस तरह शुल्कों के हिसाब से यह उत्पाद म्यूचुअल फंड (जो करीब 2.5 फीसद शुल्क वसूलते हैं) के मुकाबले बहुत सस्ता है। लेकिन एक मामले में एनपीएस म्यूचुअल फंड से कमजोर है।

एनपीएस ही क्यों
आज निवेशकों के लिए उपलब्ध बाजार से जुड़े विभिन्न रिटायरमेंट विकल्पों में एनपीएस बेहतर है, क्योंकि इसकी निगरानी पेंशन फंड नियामक व विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) के हाथ में है। एनपीएस की कुछ ऐसी खासियतें हैं जो इसे अन्य पेंशन योजनाओं के मुकाबले बेहतर साबित करती हैं। ये हैं :
-एनपीएस में केवल 0.01 फीसद फंड प्रबंधन शुल्क लगता है। यह विश्व में सबसे कम लागत में प्रबंधित होने वाला फंड है।
-यह पूर्णत: पोर्टेबल है यानी व्यक्ति कितनी ही बार नौकरी और स्थान बदले, कोई फर्क नहीं पड़ता।
-निवेश का ब्योरा प्राप्त करने की ऑनलाइन सुविधा।
-निवेशक अपनी पसंद के सेवा प्रदाता, पेंशन फंड मैनेजर, फंड, निवेश विकल्प तथा एन्यूटी सर्विस प्रोवाइडर का चुनाव कर सकता है।
-एक सर्विस प्रोवाइडर, फंड मैनेजर, फंड अथवा निवेश विकल्प को छोड़कर दूसरे का चयन किया जा सकता है।
-ग्राहक अपनी सुविधानुसार निवेश व निकासी की राशियां तय कर सकता है। इसी तरह एन्यूटी खरीद के भी कई विकल्प मिलते हैं।

एनपीएस खातों के प्रकार

टियर-1 खाता : यह रिटायरमेंट तक बचत के लिए होता है। तब तक इसमें से कोई राशि नहीं निकाली जा सकती।

टियर-2 खाता : यह पूरी तरह से स्वैच्छिक बचत सुविधा है। ग्राहक इसमें से जब चाहे इच्छानुसार पैसे निकाल सकता है। लेकिन इस पर किसी तरह का कर लाभ नहीं है।

स्कीम से निकास
एनपीएस खाता खोलने के 10 साल बाद या 60 साल की उम्र पूरी होने पर ग्राहक इससे बाहर निकल सकता है। उम्र के अनुसार ग्राहक को निम्नलिखित लाभ मिलते हैं:

साठ साल से कम उम्र पर : कार्पस की 20 फीसद एकमुश्त राशि निकाली जा सकती है। शेष राशि का निवेश एन्यूटी में करना होता है। यदि कार्पस एक लाख रुपये से कम है, तो पूरी राशि एकमुश्त निकाली जा सकती है।

साठ साल की उम्र होने पर : कार्पस की 60 फीसद राशि एकमुश्त निकाली जा सकती है। शेष राशि का एन्यूटी में निवेश करना पड़ता है। यदि कार्पस दो लाख या उससे कम है तो पूरी राशि एकमुश्त निकाली जा सकती है।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.