केंद्रीय कर्मचारियों को रक्तदान करने पर साल भर में मिलेंगी चार छुट्टियां

| January 26, 2018

कार्मिक मंत्रालय द्वारा जारी एक फैसले के मुताबिक कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों को रक्तदान के लिए एक दिन की छुट्टी मिलती है

लखनऊ. आजादी के समय नेताजी सुभाषचंद बोस ने एक नारा दिया था-तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा। लंबे समय बाद कुछ इसी तर्ज पर एक सुविधा केंद्रीय कर्मचारियों के उपलब्ध है। यानी खून दो और बदले में काम करने के बंधन से आजादी पाओ। जी हां, यह एक सही खबर है। केंद्र सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को यह तोहफा दिया है। हाल ही केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय द्वारा जारी एक फैसले के मुताबिक कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों को रक्तदान के लिए एक दिन की छुट्टी मिलेगी है। किसी भी कर्मचारी को साल भर में चार दिन पूर्ण रक्तदान करने पर यह अवकाश मिल सकेगा।







एफेरिसिस ब्लड डोनेशन पर अवकाश नहीं

केंद्र सरकार के कर्मचारियों को ये छुट्टी रक्तदान करने के लिए मिलेगी लेकिन यह अवकाश खास तरह के ब्लड डोनेशन यानी एफेरेसिस डोनेशन के लिए नहीं मिलेगा। केंद्र के इस फैसले का लखनऊ के केद्रींय कर्मचारियों के संगठन ने स्वागत किया है।




क्या है एफेरेसिस ब्लड डोनेशन

एफेरेसिस ब्लड डोनेशन वह रक्तदान होता है जब किसी जरूरतमंद को पूरा खून देने की बजाय सिर्फ उतना ही ब्लड दिया जाता है, जितने की मरीज को जरूरत होती है। इस दौरान ब्लड डोनर के खून का एक हिस्सा ही विशेष मशीन यानी ब्लड सेंट्रीफ्यूजन मशीन के माध्यम से अलग किया जाता है। मशीन प्लेटलेट को इकट्ठा करती है और ब्लड के शेष खनिजों को सुरक्षित रूप से शरीर में वापस लौटा देती है। इस पूरी प्रक्रिया के बाद ब्लड डोनर नॉर्मल गतिविधियों को शुरू कर सकते हैं। लेकिन, इसमें इस बात का ध्यान दिया जाता है ब्लड डोनर उस दिन कोई भारी समान न उठाए और न ही कोई भारी व्यायाम करे।




एफेरेसिस ब्लड डोनेशन भी हो शामिल

हालांकि, मंत्रालय ने अपने आदेश में कहा है कि एफेरेसीस ब्लड डोनेशन महत्वपूर्ण है। लेकिन, ब्लड डोनेशन के नाम पर एक दिन की छुट्टी मिलने वाले नियम में अभी इसे शामिल नहीं गया है। कर्मचारी संगठनों ने मांग की है कि इस तरह के ब्लड डोनेशन को भी लीव में शामिल किया जाए। क्योंकि इससे रक्त घटक, प्लाज्मा, जैसे रक्त घटक प्राप्त करने में ब्लड बैंकों को लाभ होगा। यानी चाहे नॉर्मल ब्लड डोनेशन हो या फिर एफेरेसिस ब्लड डोनेशन हो, इसे भी नियम के अंतर्गत शामिल किया जाना चाहिए। एफेरेसिस ब्लड डोनेशन करने वालों को भी एक दिन का अवकाश मिलना चाहिए।

लाइसेंस प्राप्त ब्लड बैंक्स से देना होगा सर्टिफिकेट

फैसले में कहा गया है कि कर्मचारी यदि कार्य दिवस पर देश के किसी भी मान्यता प्राप्त और लाइसेंस प्राप्त ब्लड बैंक्स में रक्तदान (रक्त कोशिकाओं, प्लाज्मा, प्लेटलेट आदि जैसे रक्त घटक) करता है तो उसे एक दिन की विशेष कैजुअल लीव दी जा सकती है। हालांकि, ये छुट्टी सिर्फ एक ही दिन की होगी। ये छुट्टी सिर्फ उसी दिन मिलेगी जिस दिन ब्लड डोनेशन किया जाएगा। ऐसा साल भर में सिर्फ चार दिन ही किया जा सकेगा। छुट्टी के लिए मान्यता ब्लड बैंक से इस आशय का प्रमाण पत्र देना होगा कि कर्मचारी ने ब्लड डोनेट किया है।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.