युवाओं को रेलवे में नौकरियों की सौगात, रेल मंत्री ने भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के ओदश दिए

| January 2, 2018

युवाओं को रेलवे में नौकरियों की सौगात, ’ चतुर्थ श्रेणी में 72,000, आरपीएफ में 19,952 पदों पर भर्तियां होंगी, रेल मंत्री ने भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के ओदश दिए

बेरोजगार युवाओं के लिए नया साल 2018 रेलवे में बड़े पैमाने पर नौकरियों की सौगात लेकर आया है। रेल मंत्रलय अपने विभिन्न जोनल में 70 हजार से अधिक चतुर्थ श्रेणी के खाली पदों पर भर्ती करने जा रहा है। इसके अलावा लगभग 20 हजार रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) पद पर कांस्टेबल की भर्ती होगी। आरपीएफ में 10 फीसदी महिला कांस्टेबल की भर्ती की जाएगी।रेलवे बोर्ड के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सभी 17 जोनल रेलवे में 72 हजार पदों पर भर्ती करने संबंधी अधिसूचना जारी हो जाएगी।








रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रेलवे में रिक्त पदों को लेकर जानकारी मांगी थी। इसमें पता चला है कि रेलवे में संरक्षा वर्ग जैसे गैंगमैन, कीमैन, खलासी, गेटमैन, प्वाइंटमैन आदि के एक लाख 30 हजार से अधिक पद रिक्त हैं। जिससे सुरक्षित ट्रेन परिचलान में काफी दिक्कतें आ रही हैं।इसको देखते हुए रेल मंत्री गोयल ने 72,000 पदों पर भर्ती के आदेश दिए हैं। अधिकारी ने बताया कि 50,000 पदों को रेलवे रिक्रूटमेंट सेल (आरआरसी) के जरिये भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी।




गुड न्यूजः अब 8वीं पास भी कर सकेंगे रेलवे में नौकरी

रेल मंत्रालय ने स्वीकार किया है कि ट्रैक रखरखाव की नौकरी (ट्रैकमैन) के लिए आवेदन करने की न्यूनतम योग्यता को संशोधित किया गया है। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि इस पद के लिए भर्ती होने वाले अधिक योग्य होते हैं और काम करने में अनिच्छा दिखाते हैं। इस पद के लिए न्यूनतम शिक्षा योग्यता आठवीं थी, जिसे बाद में बढ़ाकर 10वीं कर दिया गया था और अब एक बार फिर इसे 8वीं कर दिया गया है।




न्यूनतम योग्यता को फिर से संशोधित किया गया

आवेदकों को इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट सर्टिफिकेशन के लिए अनिवार्य बनाने को अब आवश्यक न्यूनतम योग्यता को फिर से संशोधित किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि परीक्षा के लिए आने वाले आवेदक अकसर कॉमर्स और विज्ञान से स्नातक और स्नातकोत्तर होते हैं।

रेलवे राज्य मंत्री राजेन गोहेने ने लोकसभा में एक प्रश्न के जवाब में कहा था कि रेलवे के पास पद के मुताबिक अधिक योग्य कर्मी हैं जबकि एक अधिकारी ने यह भी बताया कि ट्रैकमैन की नौकरी के लिए एमबीए और बीई इंजीनियर चयनित हो जाते हैं। ऐसे में वह लेबर की तरह ट्रैक पर नहीं चलना चाहते और आमतौर पर अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी करने लगते हैं।

 

 

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.