Railway takes action against TTE for misconduct

| January 2, 2018

काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस में छात्र के साथ छेड़छाड़ करने के आरोपी टीटीई को चंद घंटों बाद बेल मिल गई, जिसके बाद डीआरएम ऑफिस बुलाकर टीटीई के बयान दर्ज किए गए है। साथ ही रेल प्रशासन की ओर से मामले की जांच शुरू कर दी गई। इतना ही नहीं छात्र की मदद करने वाले आरपीएफ के दोनों जवानों को सम्मानित करने का निर्णय भी लिया गया।








रविवार को काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस में अमरोहा से दिल्ली जा रही दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्र स्लीपर कोच में सवार हुई थी। जल्दी बाजी में टिकट नहीं ले पायी था। आरोप है कि छात्र ने टीटीई रवि कुमार मीना को जुर्माना समेत टिकट बनाने को कहा। टीटीई मीना छात्र को एसी कोच के खाली कूपा में ले गया और छेड़खानी करनी शुरू कर दी। छात्र किसी तरह से ट्रेन में सुरक्षा को तैनात आरपीएफ के दो सिपाही को सूचना दी। दोनों सिपाही ने टीटीई के चंगुल से छात्र को बचाया।




कंट्रोल रूम की सूचना पर आरोपी टीटीई को गाजियाबाद में ट्रेन से उतार लिया और छात्र की तहरीर पर जीआरपी गाजियाबाद में टीटीई के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। टीटीई जमानत पर न्यायालय से छूट गया है। घटना के बाद रेल प्रशासन टीटीई को निलंबित कर दिया था। जमानत पर रिहा टीटीई को सोमवार को डीआरएम आफिस बुलाया गया। सीनियर डीसीएम ने टीटीई से पूछताछ करने के बाद निलंबन आदेश रिसीव कराया दिया। साथ ही विभागीय जांच शुरू कर दी गई।




एक दो दिन में टीटीई को आरोप पत्र जारी कर दिया जाएगा। दूसरी ओर प्रवर मंडल सुरक्षा आयुक्त अजित कुमार वर्णवाल ने छात्र को बचाने वाले आरपीएफ के जवान राकेश कुमार तोमर और सोनू को पुरस्कृत करने की घोषणा की है। मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल ने बताया कि आरोपी टीटीई के खिलाफ जांच शुरू हो गई। शीघ्र ही आरोप पत्र जारी किया जाएगा, उसके बाद आरोपी टीटीई के खिलाफ गंभीर कार्रवाई की जाएगी।’>>टेन में छात्र से छेड़छाड़ करने के आरोपी टीटीई के खिलाफ जांच शुरू1’>>छात्र को बचाने वाले आरपीएफ के दोनों जवानों को किया जाएगा पुरस्कृत

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.