रेलवे ने अपनाया मैनेजमेंट का नया फंडा, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को विदेश यात्रा करवा बढ़ाएगा कार्यकुशलता

| December 23, 2017

जोधपुर .रेलवे बोर्ड रेलवे में कार्यरत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों गैंगमैन, ट्रैकमैन, पॉइंट्समैन, खलासी,टेक्नीशियन व डी समूह के सभी कोटियों के कर्मचारियों को विदेश यात्रा कराएगा। जी हां, इस सम्बन्ध में रेलवे बोर्ड ने प्रस्ताव बना कर सभी जोन मुख्यालयों से सुझाव मांगे हैं। रेलवे बोर्ड ने कर्मचारियों में सृजनात्मक, मनोरंजन व श्रमिक कार्यकुशलता बढ़ाने के उद्देश्य से संक्षिप्त विदेश यात्रा का प्रस्ताव बनाया है।








२५ फीसदी राशि कर्मचारी से, शेष एसबीएफ से

रेलवे बोर्ड के इस प्रस्ताव के अनुसार विदेश यात्रा करने वाले कर्मचारियों से कुल खर्चे की २५ फीसदी ही राशि ली जाएगी। जबकि शेष राशि कर्मचारी हित निधि से उपलब्ध कराई जाएगी। रेलवे में कार्यरत कर्मचारियों व उनके परिजनों के सुविधा के लिए कर्मचारी हित निधि (एसबीएफ) बनी हुई है, जिसमें रेलवे प्रतिवर्ष जोन स्तर पर इसमें राशि आंवटित करता है। यह राशि सभी रेलकर्मियों के बच्चों के तकनीकी उच्च शिक्षा, रेलवे की सांस्कृतिक गतिविधियों, महिला सशक्तिकरण, वैकल्पिक चिकित्सा आयुर्वेद व होम्योपैथी के चिकित्सक व दवाइयों की खरीद, कैंसर व हृदय रोगियों की सहायता तथा रेलवे कर्मचारियों, उनके बच्चों व परिजनों के लिए देश के विभिन्न स्थानों पर शिविर आयोजित करने पर इस निधि में से राशि खर्च की जाती है। शिविर में रेलकर्मी को अपनी स्वयं की छुट्टी व स्वयं का सुविधा पास लेना होता है तथा यात्रा में ठहरने, खाना, पर्यटन पर होने वाले खर्च की राशि में से एक नाममात्र की राशि कर्मचारी से ली जाती है, तथा शेष राशि इसी कर्मचारी हित निधि में से खर्च की जाती है।




प्रावधान नहीं, फिर भी प्राथमिकता

कर्मचारी हित निधि में विदेश यात्रा का प्रावधान नहीं है, लेकिन रेलवे बोर्ड अपने कर्मचारियों विशेषकर चतुर्थ श्रेणी, डी समूह के कर्मचारी जिसमें गैंगमैन-ट्रैकमैन, पाइन्ट्समैन, खलासी तथा वे चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी, जिनकी सेवानिवृत्ति तिथि नजदीक हैं, उनको प्राथमिकता देने का प्रस्ताव बनाया है। रेलवे बोर्ड की मंशा है इससे चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को विदेश घूमने के साथ-साथ सृजनात्मक कार्य सीखने व विदेशों में कार्य की तकनीक को नजदीक से देखने व सीखने का अवसर मिलेगा। दक्षिण मध्य रेलवे के मुख्यालय सिकन्दराबाद ने 6 दिवसीय मलेशिया-सिंगापुर का प्रस्ताव भी बना लिया है।




उत्तर पश्चिम रेलवे में भी इसे लागू करवाएंगे

उत्तर पश्चिम रेलवे मजदूर संघ जोधपुर मण्डल के सचिव अजय शर्मा ने कहा कि नेशनल फैडरेशन ऑफ इण्यिन रेलवेमैन ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया है। उत्तर पश्चिम रेलवे जोन व जोधपुर मण्डल में भी इसको लागू करने के प्रयास किए जाएंगे, ताकि यहां के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी जो दिन-रात अपने काम में लगे रहते हैं, उनको भी विदेश जाने का अवसर मिल सके।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.