पीएफ के ब्याज दर में कटौती की तैयारी में सरकार

| November 18, 2017

पीएफ के ब्याज दर में कटौती की तैयारी में सरकार

ईपीएफओ अधिकारियों का कहना है कि बॉन्ड्स और सावधि जमा जैसी बाजार प्रणाली से अच्छे परिणाम नहीं मिल रहे हैं। ऐसे में ब्याज को पुरानी दर पर रखना मुश्किल है, जबकि अन्य लघु बचत योजनाओं में अधिकतम ब्याज दरें काफी कम हैं। इन वजहों के मद्देनजर वित्त मंत्रलय ने पीएफ में ब्याज दरों को अगले साल के लिए घटाने को कहा, जिस पर सीबीटी जल्द निर्णय करेगा।









नई दिल्ली विशेष संवाददाताकर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के करोड़ों भविष्य निधि खाताधारकों को आने वाले दिनों में ब्याज दरों में कटौती किए जाने का झटका लग सकता है। सभी लघु बचत योजनाओं में ब्याज दरें कम होने के मद्देनजर वित्त मंत्रलय ने वित्त वर्ष 2017-18 के लिए दरें घटाने को कहा है। ईपीएफओ का सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (सीबीटी) 23 नवंबर को बैठक कर दरें कम करने पर फैसला लेगा। माना जा रहा है कि सीबीटी स्थितियों के मद्देनजर दरों में .15 प्रतिशत की कटौती करेगा। मौजूदा समय में 8.65 फीसदी की दर से खाताधारकों को पीएफ पर ब्याज मिलता है।

सरकार के एक अधिकारी के मुताबिक, दरों के घटने के बावजूद पीएफ खाताधारकों के फायदे में कोई कमी नहीं आएगी। अब अंशदान को इक्विटी में निवेश किए जाने के बाद पहली बार खाताधारकों को इकाइयों (यूनिट) का आवंटन किया जा सकता है। इसको मिलाने से ब्याज दर में कमी किए जाने के बावजूद खाताधारकों को पिछले साल की ब्याज दर के बराबर या उससे ज्यादा का फायदा मिल सकता है। अधिकारी के मुताबिक, आगामी 23 नवंबर की बैठक में सीबीटी कटौती की मंजूरी दे सकता है।

पीएफ अकांउट के पांच फायदे, जो आपको अब तक नहीं पता होंगे..





पीएफ पर मिल रहे ये पांच फायदे….

1) पिछले ही साल ईपीएफओ ने अपने इस फैसले को वापस ले लिया था कि निष्क्रिय पड़े खातों पर ब्याज नहीं मिलेगा, यानी अब आपको अपने पीएफ खाते पर तब भी ब्याज मिलेगा जब वह 3 साल से अधिक समय तक निष्क्रिय पड़ा रहा हो.  36 महीनों तक लगातार यदि आपके पीएफ खाते से न पैसा निकाला गया और न ही इसमें डाला गया तो भी मौजूदा रकम पर ब्याज मिलता रहेगा. वैसे वित्तीय मामलों के जानकार कहते हैं कि भले ही ब्याज मिलता रहे लेकिन इसे सक्रिय पीएफ खाते में ट्रांसफर करवा लेना चाहिए या निकाल लेना चाहिए क्योंकि मौजूदा नियमों के मुताबिक पांच साल से अधिक समय इस निष्क्रिय खाते के लगातार निष्क्रिय ही बने रहने पर इसे निकाले पर टैक्स देना होगा.




2. क्या आपको पता है कि पीएफ खाते से आपको बाई डिफॉल्ट बीमा भी मिलता है. EDLI योजना के तहत आपके पीएफ खात पर 6 लाख रुपये तक इंश्योरेंस मिलेगा. यह योजना है Employees Deposit Linked Insurance (EDLI).

3. एक और जरूरी बात. 10 साल तक लगातार पीएफ खाता मेंटेन करने पर जीवन भर की एंप्लॉयी पेंशन स्कीम का लाभ मिलेगा. यानी, 10 साल तक लगातार ऐसी नौकरी (नौकरियों) में रहने जहां से आपके पीएफ खाते में पैसा जमा होता रहा, आपको Employees’ Pension Scheme 1995 के तहत एक हजार रुपये की पेंशन रिटायरमेंट के बाद मिलती रहेगी.

4. आधार से लिंक आपके यूएएन नंबर के जरिए आप अपने एक से अधिक पीएफ खातों (यदि जॉब चेंज करते रहे हैं तो) को लिंक कर सकते हैं. नौकरी बदलने पर पीएफ का पैसा ट्रांसफर करना अब आसान हो गया है. नई नौकरी जॉइन करने पर ईपीएफ के पैसे को क्लेम करने के लिए अलग से फॉर्म-13 भरने की जरूरत अब नहीं. अब यह अपने आप हो जाएगा. ईपीएफओ ने एक नया फॉर्म पेश किया है, फॉर्म 11 जोकि फॉर्म 13 की जगह पर इस्तेमाल होगा. यह ऑटो ट्रांसफर के सभी मामलों में इस्तेमाल होगा.

5. अब बात करते हैं विदड्रॉल की. पीएफ से पैसा निकालना है तो आप इन परिस्थितियों में एक निश्चित रकम निकाल सकते हैं : मकान खरीदने या बनाने के लिए, मकान की रीपेमेंट के लिए, बीमारी में, उच्च शिक्षा के लिए, शादी आदि के लिए. इन फायदों का इस्तेमाल करने के लिए आपको ईपीएफओ का एक खास समय तक सदस्य होना चाहिए.

pf interest rates cut st

Category: EPFO, News, Provident Fund

About the Author ()

Comments are closed.