रेलवे कर्मियों को लगानी होगी आधार वाली हाजिरी

| November 5, 2017

अब रेलवे के लेटलतीफ और ड्यूटी से गायब रहने वाले कर्मचारियों की खैर नहीं है। रेलवे ने तय किया है कि वह अपने सभी जोन और डिविजनों में इस साल जनवरी तक बायोमेट्रिक अटेंडेंससिस्टम लागू करेगा। अभी यह व्यवस्था रेलवे बोर्ड, जोनल हेडक्वॉर्टरों और उसके चुनिंदा संस्थानों में है, लेकिन अब उसने तय किया है कि उसके सभी उपक्रमों और डिवीजनों में इसे लागू किया जाएगा। रेलवे बोर्ड के एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक हालांकि पहले से ही यह कहा गया था कि धीरे धीरे यह हाजिरी सिस्टम पूरे रेलवे में लागू किया जाएगा लेकिन ऐसा हुआ नहीं।








अब तय किया गया है कि रेलवे में उच्चस्तर पर इस सिस्टम को लागू करने की निगरानी की जाएगी और अगले साल जनवरी तक इसे सभी जगह लागू किया जाएगा। आधार आधारित इस हाजिरी सिस्टम में बायोमेट्रिक सिस्टम से अटेंडेंस लगती है।




तीन साल पहले रेलवे बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे को बायोमैट्रिक अटेंडेंस सिस्टम लगाने का फरमान जारी किया था। लेकिन अभी तक इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। इससे नाराज रेलवे बोर्ड ने 30 दिसंबर, 2014 के पत्र का हवाला देते हुए 30 नवंबर तक आदेश का पालन करने का निर्देश दिया है। ताजा पत्र में रेलवे बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे को आदेश दिया है कि आधारकार्ड सिस्टम पर आधारित बायोमैट्रिक अटेडेंस सिस्टम लगाए जाएं। सिस्टम को ऐसा जोड़ा जाए कि कर्मचारियों की उपस्थिति डिविजन लेवल पर डीआरएम देख सकें, सभी डीआरएम कार्यालयों को जोनल रेलवे यानी मुख्यालय से जोड़ा जाए और सभी मुख्यालयों को रेलवे बोर्ड से जोड़ा जाए। इससे प्रतिदिन कितने रेल कर्मचारी काम कर रहे हैं उसकी ठीक संख्या बोर्ड में मॉनिटर की जाएगी। साथ ही इन मशीनों को सीसीटीवी कैमरों की जद में लगाने की बात कही गई है।




पश्चिम रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस तरह के सिस्टम लगाने का आदेश पहले ही मिल चुका था लेकिन यूनियन के अड़ंगों के चलते योजना लटक गई थी। कईं बार यूनियन से जुड़े कर्मचारी रोस्टर में हाजिरी लगाने के बाद राजनीतिक कामों में लग जाते हैं लेकिन अब इस आदेश को लागू करना ही है इससे बचने का कोई विकल्प नहीं है।

Source:- NavBharatTimes

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.