रेलवे अगले पांच साल में देगा दस लाख नौकरियां : गोयल

| October 31, 2017

रेल मंत्री बनते ही पीयूष गोयल रेल कर्मचारियों की सुविधाओं में वृद्धि पर जोर दे रहे हैं। उन्होंने नया आदेश दिया है कि रेल कर्मचारियों के छुट्टी के आवेदन को एक दिन के अंदर ही स्वीकृत या मना करना होगा। अगर मना किया जाता है तो इसका कारण स्पष्ट करते हुए वरीय अधिकारियों को बताना होगा। कर्मचारियों की हमेशा से शिकायत रहती थी कि छुट्टी नहीं मिलती है। अधिकारी कई-कई दिन तक आवेदन रोक कर रखे रहते थे। अब ऐसा नहीं होगा। कर्मचारियों के कैजुवल लीव का निष्पादन एक दिन में तथा मैटरनिटी व पैटरनिटी लीव का निष्पादन एक हफ्ते में करना होगा। रेल मंत्री ने कर्मचारियों का वर्क कल्चर सुधारने के लिए चार्टर ऑफ कमिटमेंट नामक चार्ट तैयार किया है।








महाप्रबंधकों को कर्मचारियों की समस्याओं का निष्पादन करना होगा। दक्षिण पूर्व रेलवे ने इस पर संज्ञान लेते हुए अमल करना शुरू कर दिया है।एक दिन में स्वीकृत होगी रेलकर्मियों की छुट्टीतापस बनर्जी ’ धनबाद 1रेलवे ने किन्नरों के लिए आरक्षण फॉर्म में एक बार फिर बदलाव किया है। अब उन्हें फॉर्म में केवल ‘टी’ लिखना होगा। रेलवे के आरक्षण केंद्रों के साथ-साथ ऑनलाइन टिकट की बुकिंग के दौरान भी यह लागू होगा। रेलवे बोर्ड के डायरेक्टर, पैसेंजर मार्केटिंग विक्रम सिंह ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।




रेलवे में दशकों तक किन्नरों के लिए कोई अलग व्यवस्था नहीं थी। पिछले वर्ष से उनके लिए आरक्षण फॉर्म में बदलाव किया गया। उसमें टी (एम/एफ) का विकल्प दिया गया। अब नए प्रावधान में उन्हें केवल टी (ट्रांसजेंडर) लिखना होगा। विगत वर्ष किन्नरों के लिए रेलवे के आरक्षण फॉर्म में किए गए बदलाव पर सवाल उठाया गया था। सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रलय के समक्ष यह मुद्दा उठा था कि किन्नर को महिला व पुरुष का सर्टिफिकेट कैसे जारी होगा। इसके जवाब में बताया गया था कि दी ट्रांसजेंडर पर्सन (प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स) बिल, 2016 को सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता संबंधी स्टैंडिंग कमेटी को रेफर किया गया है। कमेटी उसकी समीक्षा के बाद रिपोर्ट तैयार करेगी। इसके साथ ही यह निर्णय लिया गया कि जब तक सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रलय किसी निष्कर्ष पर पहुंचता है, तब तक किन्नरों को रेलवे आरक्षण या टिकट रद कराने के लिए आवेदन फॉर्म में केवल टी लिखने की सुविधा दी जाए। नई व्यवस्था को लेकर क्रिस (सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम) के सॉफ्टवेयर को अपडेट करने संबंधी निर्देश जारी किया गया है।




प्रेट्र : रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि रेलवे 150 अरब डॉलर (करीब 9,750 अरब रुपये) के निवेश की योजना बना रहा है। इससे अगले पांच साल में दस लाख अतिरिक्त नौकरियां पैदा करने में मदद मिलेगी। कैबिनेट के पिछले फेरबदल में रेल मंत्रलय का कामकाज संभालने वाले गोयल ने यह भी कहा कि वह रेलवे को एक ‘नई दिशा’ देने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘अगले पांच सालों में रेलवे 150 अरब डॉलर (9,750 अरब रुपये) तक निवेश करने की तैयारी कर रहा है। इसे जब रोजगार में परिवर्तित किया जाएगा तो मैं देखता हूं कि इसके जरिये सिर्फ रेलवे सेक्टर में दस लाख रोजगार पैदा होंगे।

एक अखबार की ओर से आयोजित एक अवार्ड समारोह में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार के आरामदेह और सुरक्षित यात्र के एजेंडे को पूरा करने में रेलवे अहम भूमिका निभा सकता है। 1आधारभूत ढांचे पर ध्यान देने पर भी स्थानीय रूप से निर्माण कार्यो को बढ़ावा दिया जा सकता है। रेल मंत्री पियूष गोयल ने कहा कि रेल मंत्रलय दस साल के बजाय अब चार सालों में ही रेलवे लाइनों के विद्युतीकरण के काम को तय समय में पुरा करने के लिए जरूरी प्रयास में जुटा हुआ है। 1घाटे में चल रही रेलवे को इससे 30 फीसद की लागत कम करने में मदद मिलेगी। रेलों के विद्युतीकरण से सालाना तौर पर 10 हजार करोड़ रुपये का ईंधन बचेगा।

railway-jobs-st

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.