Chairman Railway Board leads with example by leaving saloon, but other officers yet to follow suit

| October 15, 2017

lohani in rly board

चेयरमैन कर रहे एसी कोच में सफर, लेकिन अफसर नहीं छोड़ पा रहे सैलून का शौक

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन का पद संभालते ही सीआरबी अश्विनी लोहनी ने अधिकारियों को वीआईपी कल्चर खत्म करने के निर्देश दिए थे।

भोपाल। उन्होंने सैलून में सफर करने वाले अधिकारियों को ट्रेनों के एसी कोच में सफर करते हुए यात्रियों से रू-ब-रू होने के लिए कहा था, जिसका रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी समर्थन किया था। सीआरबी खुद भी इसे फॉलो कर रहे हैं, लेकिन पश्चिम मध्य रेलवे के अधिकारी उनके आदेशों का मखौल उड़ा रहे हैं। लोहनी शनिवार को भोपाल एक्सप्रेस के फस्र्ट एसी कोच में भोपाल आए। यह उनका ऑफिशियल दौरा नहीं था। वे अपने निजी काम से आए थे। इधर, पश्चिम मध्य रेलवे जोन के सीसीएम एमपी मेहता बीते दो दिन से भोपाल में हैं। वे जबलपुर से सैलून लेकर आए हैं। वहीं पमरे के जीएम गिरीश पिल्लई भी सैलून से आए थे।








अन्य जोनों में अमल शुरू:

हाल ही में नार्दन रेलवे के जीएम आरके कुलश्रेष्ठ को 11 अक्टूबर को दौरे पर जाना था, तो ट्रेन के एसी थर्ड कोच में लोगों से बातचीत करते हुए गए थे। इसकी फोटो जारी हुई तो रेलवे के सुधारों की लोगों ने प्रशंसा की, लेकिन पमरे का नंबर आते ही अधिकारियों की मनमानी सामने आ गई। शुक्रवार को सीआरबी की उपस्थिति के बाद भी सीसीएम एमपी मेहता सैलून से आए। बीते दिनों पीसीसी राजेश अग्रवाल, सीओएम मनोज सेठ भी सैलून से भोपाल आए।




तीन कर्मचारी तैनात :

एक सैलून में एक अधिकार के लिए एक कुक, इंस्पेक्टर और एक नौकर लगा रहता है। एक बार सैलून लेकर जाने पर रेलवे को काफी रुपए का खर्च आता है।

डीआरएम ऑफिस पहुंचे रेलवे के मुखिया :

निजी दौरे पर भोपाल आए लोहानी व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद एक घंटे के लिए मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय पहुंचे। यहां डीआरएम शोभन चौधुरी सहित ब्रांच ऑफिसर, सुपरवाइजरों को बुलाया। लोगों से परिचय लिया और उनके बारे में पूछा। एमपी टूरिज्म व एयर इंडिया में अपने सफल कार्यकाल की कई घटनाओं को शेयर किया।




सुबह करीब 6.50 बजे वे गाड़ी संख्या 12156 से भोपाल रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। उनके साथ धर्मपत्नी भी थीं। अगले महीने उनकी बेटी की शादी है, इसी का कार्ड देने वे भोपाल आए थे। 11 बजे मुख्यमंत्री आवास पहुंचे। यहां सीएम को शादी में शामिल होने का न्योता दिया। दोपहर में मंत्रालय, पीएचक्यू के अधिकारियों से भी मिले। शाम को हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर एमपी टूरिज्म और एयर इंडिया के अधिकारियों एवं कर्मचारियों से मुलाकात की। भोपाल स्टेशन पर आरपीएफ आईजी आरके मलिक दिखे तो उन्होंने तुरंत टोका।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.