त्योहारों पर घर जाने का बड़ा इंतजाम, रेलवे देश भर में चलाएगा 4000 विशेष रेलगाड़ियां

| September 21, 2017

टिकट बुकिंग में डिजिटलीकरण कम प्रभावी, खान-पान व सुरक्षा का भी रखा जा रहा ख्याल, अधिकतर ट्रेन टिकट नकद बुक होते हैं 
रेलवे के एक पोर्टल के सव्रे में खुलासा, पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष 200 ट्रेनें बढ़ायीं, 306 नियमित या संस्थागत ट्रेनों में 9,500 अतिरिक्त डिब्बों की व्यवस्थाये विशेष बंदोबस्त 30 अक्टूबर तक रहेंगे

भारतीय रेलवे आगामी त्योहारों में दशहरा से लेकर छठ पूजा के दौरान देश भर में 4,000 विशेष रेलगाड़ियां चलाएगा। इस दौरान यात्रियों की सुरक्षा व सुविधा पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। दिल्ली और अन्य शहरों से छठ के दौरान विशेष ट्रेनें पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए चलायी जाएंगी। दिल्ली में संभव है कि ये स्पेशल ट्रेनें आनंद विहार टर्मिनल से चलाई जाएं। केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने यहां संवाददाताओं को इसकी जानकारी दी और कहा कि रेलवे ने इसके लिए व्यापक बंदोबस्त की तैयारी पहले ही शुरू कर दी है। उन्होंने कहा, इस साल दुर्गा पूजा, दशहरा, दीपावली व छठ पर्व के त्योहारी मौसम में देश भर में 4,000 विशेष रेलगाड़ियां चलाई जाएंगी जबकि 55 अतिरिक्त रैकों की व्यवस्था की गई है।








इसी तरह रेलवे भीड़ वाले मागरे पर नई गाड़ी चलाने के लिए कुछ अलोकप्रिय रेलगाड़ियों को बंद भी कर सकता है। उन्होंने कहा कि 306 नियमित या संस्थागत ट्रेनों में 9,500 अतिरिक्त डिब्बों की व्यवस्था भी की जा रही है। रेलवे के ये विशेष बंदोबस्त 30 अक्टूबर तक रहेंगे। मंत्री ने कहा कि दुर्गा पूजा दशहरा व दीपावली पर पूरे देश में विभिन्न स्थानों से लोकप्रिय गंतव्यों के लिए रेलगाड़ियां चलाई जाएंगी और नियमित ट्रेनों में अतिरिक्त डिब्बे लगाए जाएंगे। वहीं छठ पर्व के दौरान कोलकाता, दिल्ली, मुंबई तथा सूरत, वडोदरा, अहमदाबाद क्षेत्रों से पूर्वी उत्तर प्रदेश व बिहार के लिए विशेष गाड़ियां चलाई जाएंगी। पिछले साल रेलवे ने इस त्योहारी सीजन में 3800 विशेष ट्रेन चलाई थीं जिनकी संख्या इस बार बढ़ाई गई है ।




यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए बड़े स्टेशनों पर पंडाल आदि की व्यवस्था की जा रही है तथा पेयजल व जनता खाना की उपलब्धता बढ़ाई जाएगी। रेलमंत्री के अनुसार रेलवे त्योहारी सीजन में यात्रियों की सुविधा के साथ साथ उनकी सुरक्षा को लेकर भी सजग है और रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के अतिरिक्त बलों व विशेष दस्तों की तैनाती की जा रही है। मंत्री ने कहा कि यात्रियों को कुलियों, दलालों व वेंडरों से कोई परेशानी नहीं हो इस पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

सरकार के देश में लेसकैश अर्थव्यवस्था और डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के बावजूद भारतीय रेल के 50 फीसद से अधिक आरक्षित टिकट नकद में ही बुक होते हैं। रेलयात्रियों को यात्रा से जुड़ी जानकारियां उपलब्ध कराने वाला पोर्टल रेलयात्री डॉट इन ने एक सव्रेक्षण के आधार पर यह दावा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में आधे से अधिक ट्रेन टिकट नकद में खरीदे जाते हैं। इसमें कहा गया है कि अधिकृत एजेंट के माध्यम से भी आरक्षित ट्रेन टिकटों की खरीदी की जाती है।




इनका योगदान आरक्षित टिकटों की बिक्री में अनुमानत: आधा है, जो नकद में खरीदे जाते हैं। इसका प्रमुख कारण है डिस-इंसेंटिव इको-सिस्टम जिससे नकदी को बढ़ावा मिलता है।पोर्टल ने कहा कि देश भर में ग्राहकों और टिकट बुक करने वाले एजेंटों पर किए गए सव्रेक्षण के आधार पर यह निष्कर्ष निकला है। इसमें डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए सुधार किए जाने की जरूरत बताते हुए कहा गया है कि देश में करीब 65 हजार ऐसे एजेंट हैं जो ट्रेन टिकट बेचते हैं और टिकट खरीदने के लिए आस-पड़ोस का टिकट एजेंट अभी भी पसंदीदा विकल्प हैं।

FESTIVE TRAINS

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.