GST is troubling Ticket Checking Staff and train Passengers both

| September 7, 2017

रेल यात्रियों और टीटीई के लिए मुसीबत बनी जीएसटी

जीएसटी लागू होने के बाद राज्यकर रेलवे प्रशासन, यात्रियों व टीटीई के मुसीबत बन गया है। जून माह में आरक्षण टिकट लेने वाले यात्रियों को टिकट परिवर्तन कराने में परेशानी हो रही है। उत्तराखंड के टीटीई को यूपी में और यूपी के टीटीई को उत्तराखंड में टिकट बनाने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। देश भर में पहली जुलाई से जीएसटी लागू हो गया है। जीएसटी में पचास फीसद केंद्र सरकार और पचास फीसद राज्य सरकार के कोष में जमा होती है। इसी कारण से रेलवे को प्रत्येक राज्य में अलग-अलग जीएसटी का पंजीयन करना पड़ता है। रेलवे जिस प्रदेश के स्टेशन के टीटीई को टिकट बनाने के लिए रसीद जारी करती है।








उस रसीद पर उस राज्य का जीएसटी नंबर अंकित होता है। संबंधित रसीद से टीटीई किसी भी राज्य में टिकट बनाएगा, राज्य का कर रसीद जारी होने वाले राज्य को मिलेगा। मुरादाबाद रेल मंडल के कई ट्रेनों में मुरादाबाद, बरेली, नजीबाबाद में तैनात टीटीई को देहरादून और हरिद्वार ट्रेन लेकर भेजा जाता है। हरिद्वार व देहरादून में तैनात टीटीई को ट्रेन लेकर मुरादाबाद व लखनऊ तक जाना पड़ता है। दूसरे प्रदेश में ट्रेन के पहुंचने के बाद टीटीई यहां टिकट नहीं बनाते हैं। उसको लगता है कि गलत टैक्स काटने पर उसके खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। इसका खामियाजा ट्रेनें सफर करने वाले यात्रियों को उठाना पड़ता है।




जुर्माना वसूली करने, बर्थ आवंटित करने को टिकट बनाने पर 18 फीसद जीएसटी लेने का प्रावधान है। 1रेलवे के नियम के अनुसार दूसरे स्टेशन की टिकट रसीद दूसरे स्टेशन पर तैनात टीटीई को जारी नहीं की जा सकती है। रेलवे में चार माह पहले आरक्षण टिकट लेने की सुविधा है। एसी क्लास में सफर करने वालों यात्रियों से जून माह तक 15 फीसद वैट लिया जाता था। पहली जुलाई से 18 फीसद जीएसटी लिया जा रहा है।1रेल मंत्री तक पहुंचीं शिकायतें: 30 जून तक आरक्षण कराने वाले यात्री टिकट में अब यात्र की तारीख बदलवाने या नाम बदलवाने को आवेदन करता है तो सिस्टम अनुमति नहीं देता है।




यात्री को टिकट निरस्त कराकर दोबारा टिकट लेने को कहा जा रहा है। इससे यात्री को दोहरा नुकसान है। टिकट निरस्त कराने पर प्रत्येक यात्री के 130 रुपये की कटौती होगी और नये टिकट लेने पर कंफर्म बर्थ नहीं मिलेगा। परेशान यात्रियों ने इसकी शिकायत रेल मंत्रलय कर रहे हैं।जीएसटी से कई प्रकार की समस्याएं सामने आ रही हैं। जिसके समाधान के लिए मुख्यालय को अवगत कराया गया है। यात्रियों की सुविधा के लिए ट्रेन में तैनात टीटीई को फिलहाल दूसरे प्रदेश में ट्रेन के आने पर रसीद से टिकट बनाने का आदेश दिया है।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.