Major chunks appears in Railway’s communication system, time of train accident not confirmed

| September 4, 2017

कैफियात एक्सप्रेस हादसे की जांच ‘समय’ पर उलझी, रेलवे को पता ही नहीं कब हुआ था हादसा

सहारनपुर : सहारनपुर में अप लाइन पर रविवार को दमाला नदी व जिला अस्पताल पुल के बीच रेल पटरी टूटी मिली। गनीमत रही कि स्टेशन के कुछ कर्मियों की निगाह पड़ गई और कोई हादसा नहीं हुआ। जानकारी मिलते ही तत्काल रेल अधिकारियों को सूचित किया गया और टूटी पटरी की मरम्मत की गई। ट्रैक टूटे होने की जानकारी के 10 मिनट पहले ही इस ट्रैक से एक मालगाड़ी गुजरी थी। दूसरी मालगाड़ी को नदी पुल से पहले ही रोक दिया गया। रेल अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं।








हादसे के बाद कई ट्रेनों को डायवर्ट किया गया।•एनबीटी, इटावा : कैफियात एक्सप्रेस हादसे के लिए समय को लेकर सीआरएस टीम भी उलझ गई है। टीम ने घटनास्थल और पाता स्टेशन पर पड़ताल की। 23 अगस्त की रात पाता स्टेशन से कैफियात के गुजरने का समय रजिस्टर में तड़के 2:39 बजे और कंप्यूटर में 2:37 बजे दर्ज मिला। इससे अनुमान लगा कि हादसा 2:43 बजे हुआ, जबकि रेलवे अभी तक हादसे का समय 2:50 मान रहा था। स्टेशन मास्टर को डम्पर पलटने की सूचना 2:42 बजे मिली थी। दोनों की टाइमिंग में अंतर देख सीआरएस ने कहा कि पूरी पड़ताल के बाद ही जांच रिपोर्ट का खुलासा किया जाएगा।





सीआरएस सतीश कुमार पाण्डेय, इलाहाबाद मण्डल के डीआरएम एसके पंकज व अन्य अधिकारी अछल्दा स्टेशन पहुंचे। सीआरएस ने अछल्दा रेलवे स्टेशन पर ऑटोमैटिक सिग्नल प्रणाली का निरीक्षण किया। उन्होंने हादसे वाले दिन के समय की जांच पड़ताल की। सिग्नल को लाल करने के बारे में स्टेशन मास्टर से पूछताछ की। अछल्दा रेलवे स्टेशन पर डेढ़ घण्टे तक निरीक्षण के बाद वह घटनास्थल के लिये रवाना हुए। उन्होंने पाता स्टेशन के पास पलटे पड़े कोचों को देखा।

इसके बाद सीआरएस ने स्टेशन मास्टर मनीष व गेटमैन से काफी देर तक पूछताछ की। सीआरएस सतीश ने बताया कि हादसे की जांच अभी पूरी नहीं हुई है। जांच पूरी होने पर ही रिपोर्ट का खुलासा होगा।•एनबीटी, वाराणसी : ट्रेन हादसों का सिलसिला कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इलाहाबाद से वाराणसी की ओर आ रही मालगाड़ी की चार बोगियां शनिवार रात पटरी से उतर गईं। दुर्घटना के चलते वाराणसी-इलाहाबाद रेल मार्ग बाधित हो गया है। घटना की सूचना मिलते ही पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी मंडल के डीआरएम एसके झा समेत तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। बनारस से दिल्ली जाने वाली कई प्रमुख ट्रेनें प्रभावित हो गईं।





रेलवे के सूत्रों के मुताबिक, इलाहाबाद के फूलपुर कारखाने से खाद लेकर 52 बोगियों वाली मालगाड़ी बलिया जा रही थी। बनारस से करीब 15 किलोमीटर पहले हरदत्तपुर स्टेशन के पास पीछे की चार बोगियां पटरी से उतर गईं। दुर्घटना के पीछे पटरी के स्लीपर कमजोर होने की आशंका जताई जा रही है।

पूर्वोत्तर रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी अशोक कुमार के मुताबिक डीआरएम ने जांच के आदेश दिए हैं। पटरी पर पलटी बोगियों को क्रेन से हटाने का काम रात तक चलने से वाराणसी से दिल्ली जाने वाली शिवगंगा एक्सप्रेस व महामना एक्सप्रेस रवाना नहीं हो सकी थीं। वहीं इलाहाबाद होकर चलने वाली कई और ट्रेनों पर भी असर पड़ा है।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.