Railway Protection Force to keep vigil on tracks with Motor Bikes

| September 1, 2017

आरपीएफ बाइक से करेगी रेल लाइन की निगरानी

इन दिनों रेल लाइन के चटकने, उनके साथ छेड़छाड़ करने की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। कई बड़े रेल हादसे भी हो चुके हैं, जबकि कुछ हादसों को कर्मचरियों की सतर्कता से रोक लिया गया। ऐसे में रेल प्रशासन ने बाइक से ट्रैक की निगरानी कराने का किया है। इसके लिए मुरादाबाद रेल मंडल को जल्द ही 16 बाइक मिल जाएंगी। बाइक से निगरानी के लिए आरपीएफ जवानों को लगाया जाएगा। 1वर्तमान में रेल लाइन की निगरानी के लिए सुबह और रात में की-मैन की ओर से पेट्रोलिंग की जाती है।








एक की-मैन को पैदल तीन से चार किलोमीटर तक पेट्रोलिंग करनी पड़ती है। इस पूरी पेट्रोलिंग की प्रक्रिया में डेढ़ से दो घंटे का समय लग जाता है। जिससे शरारती तत्वों के लाइन में छेड़खानी करने की संभावना होती है। 1कई बार तो ट्रेन की कंपन से पेंड्रोल क्लिप अपने आप बाहर निकल आते हैं। जब तक की-मैन लौट कर आता है तब तक ट्रेन दुर्घटनाएं हो जाती हैं। इन सभी बातों को देखते हुए रेल प्रशासन ने फैसला लिया है कि अब लाइन की निगरानी करने के लिए इंजीनियरिंग विभाग के अलावा आरपीएफ को भी लगाया जाएगा।




इंजीनियरिंग विभाग पूरी रेल लाइन की निगरानी करेगा और संवेदनशील स्थानों पर आरपीएफ को लगाया जाएगा। आरपीएफ अधिक से अधिक लाइनों की निगरानी कर सके, इसके लिए जवानों को बाइक दी जाएगी। अधिकांश जगह रेल लाइन के किनारे बाइक चलाने का रास्ता बना हुआ है। जहां रास्ता नहीं है, वहां बनाया जाएगा।




इस व्यवस्था से किसी विशेष सूचना पर आरपीएफ के जवान शीघ्र ही घटनास्थल पर पहुंच जाएंगे।मुरादाबाद रेल मंडल को 16 बाइक जल्द ही मिल जाएंगी। जो सभी आरपीएफ थानों को उपलब्ध कराई जाएंगी। बाइक से लाइन की चेकिंग कराई जाएगी। सभी आरपीएफ थानों को एक चार पहिया वाहन भी दिया जाना है। इसके साथ ही की-मैन की व्यवस्था यथावत रहेगी।1अजित कुमार वर्णवाल, प्रवर मंडल सुरक्षा आयुक्त

rpf vigil

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.