Railway Engineering Conference held at Allahabad, 33 Points Motion adopted

| August 13, 2017

इलाहाबाद। इंजीनियरिंग कॉन्फ्रेंस में शिरकत करने आए नार्थ सेंट्रल रेलवे मेंस यूनियन के केन्द्रीय अध्यक्ष शिवगोपाल मिश्र को इंजीनियरिंग विभाग के कर्मचारियों के विरोध का सामना करना पड़ा। लंबित मांगों पर सालों से सिर्फ आश्वासन सुनने वाले कर्मचारियों ने नेता के आते ही नारेबाजी शुरू कर दी।कर्मचारियों का आरोप है कि विरोध देखकर नेता उनकी बात सुने बिना अंदर चले गए। कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि 40 फीसदी इंजीनियरिंग ग्रुप डी और सी के कर्मचारी घरेलू काम में लगे हैं। विरोध करने वालों में राजू प्रसाद, कड़ेदीन, यो¨गदर सिंह, रमाकांत शर्मा, अजीत पटेल, जहीर, रमनेवाज, संदीप कुमार, मनोज यादव, ए पांडेय, मो. तारिक, ¨बदेश्वरी यादव आदि रहे।








इंजीनियरिंग विभाग के कर्मचारी दिनरात मेहनत कर रहे हैं। काम का बोझ बढ़ता जा रहा है। सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों की जितनी भी निंदा की जाए कम है। कर्मचारी हित में यूनियन हर लड़ाई लड़ेगी। ये बातें नार्थ सेंट्रल रेलवे मेंस यूनियन के केन्द्रीय अध्यक्ष शिवगोपाल मिश्र ने कहीं। वो कोरल क्लब में पत्रकारों से इंजीनियरिंग कॉन्फ्रेंस में शिरकत के लिए इलाहाबाद आए थे।








उन्होंने ट्रैकमैनों को विशेष कैरियर प्रोग्रेशन पैकेज दिए जाने, दुर्घटना राहत गाड़ियों में ट्रैकमैनों के लिए यात्री कोच की व्यवस्था करने, भोजनावकाश और विश्रम के लिए एसी विश्रमालय की मांग की। साथ ही जनवरी 2016 के बजाए एलाउंस 2017 में देने की सरकार के फैसलों की निंदा की। कॉन्फ्रेंस में 33 सूत्रीय प्रस्ताव पास हुआ। इस दौरान महामंत्री शिवगोपाल मिश्र, शंभूलाल, वीरेंद्र सिंह, शीतला प्रसाद श्रीवास्तव, मुहिबउल्लाह, राजकुमार, उर्वशी, अर¨वद पांडेय, विजेंद्र यादव मौजूद रहे।

शनिवार को कोरल क्लब में आयोजित इंजीनियरिंग कॉन्फ्रेंस में आए नार्थ सेंट्रल रेलवे मेंस यूनियन के केन्द्रीय अध्यक्ष के खिलाफ नारेबाजी करते ट्रैकमैन।

engineering conf ald

Category: Indian Railways, News, Uncategorized

About the Author ()

Comments are closed.