Railway to adopt computerized system for train Operations

| August 2, 2017

ट्रेनों के सुरक्षित और समयबद्ध संचालन में कंप्यूटर की भूमिका महत्वपूर्ण होने वाली है। मानवीय भूल के कारण होने वाली ट्रेन दुर्घटनाओं को रोकने के लिए विभाग ने कटघर से सीबी गंज के अलावा बालामऊ से लखनऊ के बीच सॉलिड स्टेट इंटरलॉकिंग (एसएसआइ) सिस्टम लगाने का निर्णय लिया है। इस सिस्टम में कंप्यूटर ही ट्रेनों का ट्रैक और प्लेटफार्म आदि निर्धारित करेगा। 1वर्तमान में ट्रेनों का संचालन पैनल इंटरलॉकिंग और केबिन सिस्टम से किया जा रहा है।








केबिन सिस्टम में ट्रेनों को चलाने के लिए सिग्नल व लाइन सेट करने का काम रेल कर्मी मैनुअल तरीके से करते थे। पैनल इंटरलॉकिंग सिस्टम में पावर केबिन में मौजूद कर्मचारियों की टीम ट्रेनों का संचालन मशीन से करती है। इस सिस्टम से ट्रेनों के संचालन में समय अधिक लगता है। इस स्थिति से पार पाने के साथ ही दुर्घटना रहित ट्रेनों के संचालन के लिए रेल विभाग सॉलिड स्टेट इंटरलॉकिंग (एसएसआइ) सिस्टम लगाएगा।




इसके तहत ट्रेन संचालन से जुड़े कर्मी यह सुनिश्चित करेंगे कि किस ट्रेन को किसी लाइन से चलाया जाए, किसी प्लेटफार्म पर लेना है और कब चलाना है। इस पूरी जानकारी को वे कंप्यूटर पर फीड कर देंगे। उसके आधार पर कम्प्यूटर से ट्रेनों का संचालन होगा। यार्ड व सिग्नल में खराबी पर कम्प्यूटर तत्काल कंट्रोल रूम को सूचना भेजेगा। इसके बाद ट्रेनों का संचालन रुक जाएगा और दुर्घटनाओं पर अंकुश लगेगा। रेल मुख्यालय ने एसएसआइ सिस्टम की स्वीकृति दे दी है।




मुरादाबाद रेल मंडल में कटघर से सीबी गंज स्टेशन तक और बालामऊ से आलमनगर (लखनऊ) तक के सभी स्टेशनों पर एसएसआइ सिस्टम लगाने की स्वीकृति हो गई है। मंडल रेल प्रशासन को वर्ष 2019 तक यह कार्य पूरा करने का आदेश दिया गया है। 1एडीआरएम एके सिंघल ने बताया कि कटघर, दलपतपुर व मूंढापांडे स्टेशनों से केबिन के स्थान पर एसएसआइ लगाने का काम अगले सप्ताह से शुरू हो जाएगा। शेष स्टेशनों पर निर्धारित लक्ष्य से पहले काम पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है।’सीबीगंज व बालामऊ से लखनऊ के बीच लगेगा एसएसआइ सिस्टम 1’लेटलतीफी और दुर्घटनाओं पर आसानी से लगाया जा सकेगा अंकुश

COMP TRAINS ST

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.