Shatabdi trains to have new Menu next week

| July 31, 2017

नई दिल्ली :- नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की कड़वी डोज के बाद रेल मंत्रलय ने ट्रेनों में खानपान सेवा सुधारने के लिए कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। इसके तहत शताब्दी ट्रेनों में अगले हफ्ते से नया मेन्यू शुरू किया जा रहा है। अलग-अलग जायका : मंत्रलय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिस राज्य के लिए शताब्दी ट्रेन चल रही है, वहां का क्षेत्रीय व्यंजन यात्रियों को दिया जाएगा।








कोशिश होगी कि हफ्ते में सातों दिन यात्रियों को अलग-अलग भोजन परोसा जाए। ब्रांडेड का भी विकल्प : वर्तमान में शताब्दी ट्रेनों में एक ही प्रकार का वेज-नॉन वेज दिया जाता है। नए मेन्यू में देश के पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण हिस्से में जाने वाली शताब्दी ट्रेनों में वहां का स्थानीय भोजन दिया जाएगा। ब्रांडेड वेज-नॉनवेज खाने का भी विकल्प मौजूद होगा।




दरों पर फैसला आज : नए मेन्यू में खाने की दरों में परिवर्तन किया गया है, जिसपर अंतिम फैसला सोमवार को रेलवे बोर्ड के सदस्य (यातायात) मोहम्मद जमशेद से मंजूरी मिलने के बाद किया जाएगा। खाने की दरें राउंड फीगर में होंगी। इससे यात्रियों से वेंडर ओवर चार्ज नहीं कर पाएंगे। इसके अलावा थाली के अलावा वेंडर फुटकर खाना नहीं बेच सकेंगे। अधिकारी ने बताया कि रेल मंत्रलय 31 जुलाई तक समस्त शताब्दी एक्सप्रेस व दुरंतो ट्रेनें में खानपान का जिम्मा आईआरसीटीसी को सौंप देगा। 31 अगस्त तक राजधानी ट्रेनों के खानपान की जिम्मेदारी आईआरसीटीसी को दे दी जाएंगी।




दक्षिण व दक्षिण-पूर्व की ओर जाने वाली ट्रेनों में रोटी-पराठा के स्थान पर चावल से बने खाद्य पदार्थ दिए जाएंगे। दक्षिण भारत के व्यंजन जैसे इडली, सांबर, वड़ा, मसाला डोसा आदि उपलब्ध होंगे। इसी प्रकार उत्तर भारत की ट्रेनों में यात्रियों को रोटी, पराठा, पनीर की सब्जी आदि दी जाएगी।

shtabdi menu st

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.