राजधानी और शताब्दी में यात्रियों की सुरक्षा के लिए हर डिब्बे में सीसीटीवी

| July 23, 2017

रेलवे अपनी प्रीमियम ट्रेनों राजधानी और शताब्दी में यात्र को और सुविधाजनक बनाने के लिए कई बड़े और महत्वपूर्ण बदलाव करने जा रहा है। इसके तहत अगले तीन महीने में इन ट्रेनों में सूरत और सुविधा के लिहाज से एक दर्जन से अधिक बदलाव किए जाएंगे। पहले चरण में 14 राजधानी और 15 शताब्दी रेलगाड़ियों में ये बदलाव किए जाने हैं। इनमें से उत्तर रेलवे की सात रेलगाड़ियां भी शामिल हैं। विवेक तिवारी की रिपोर्ट..

राजधानी और शताब्दी रेलगाड़ियों के डिब्बों में आग से बचाव के लिए विशेष इंतजाम किए जाएंगे। किसी डिब्बे में धुआं उठते ही अलार्म बजने लगेगा और गाड़ी में अपने आप ब्रेक लग जाएगा। वहीं गाड़ी में लगे रसोईयान और पावर कार में आग लगने पर अपने आप आग बुझाने का भी इंतजाम होगा।








रेलवे की तरफ से राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में हॉटस्पॉट की सुविधा दिए जाने की तैयारी है। इसके लिए प्रारंभिक तौर पर रेल यात्रियों से कोई शुल्क भी नहीं लिया जाएगा।

राजधानी और शताब्दी ट्रेनों के अंदर छोटे-छोटे डिस्प्ले बोर्ड होंगे। गाड़ी कहां पहुंचने वाली है? कितनी गति है? आसपास से गुजरने वाली किसी मशहूर जगह की जानकारी आदि इन डिस्प्ले बोर्ड पर प्रदर्शित होगी। वहीं जीपीएस से गाड़ी के अंदर उद्घोषणा होगी कि गाड़ी कहां पहुंच गई।

यात्री अक्सर रेलगाड़ियों में शौचालय गंदा होने की शिकायत करते हैं। इसको ध्यान में रखते हुए राजधानी और शताब्दी गाड़ियों में रेलवे शौचालय की स्वच्छता और उसके लुक को लेकर बड़े बदलाव की तैयारी में हैं। ट्रेन में हवाई जहाज जैसे शौचालय लगाने की तैयारी है।




शौचालयों में सुगंध के लिए विशेष खुशबू का प्रयोग होगा वहीं शौचालय का डिजाइन ऐसा होगा कि पानी की खपत कम से कम हो।हर डिब्बे में सीसीटीवी कैमरासुरक्षा व्यवस्था पुख्ता बनाने के लिए हर डिब्बे में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। ये कैमरे गाड़ी के दोनों दरवाजों के पास लगाए जाएंगे। यदि कोई यात्री सामान चोरी होने या कोई महिला छेड़छाड़ की शिकायत करती है तो मामले की जांच में इन कैमरों की रिकार्डिग का प्रयोग किया जा सकेगा।




यदि किसी यात्री को चलती गाड़ी में कैटरिंग, सफाई या एसी से संबंधित कोई शिकायत है तो उसके निवारण के लिए इन ट्रेनों में ऑनबोर्ड सेवा उपलब्ध करायी जाएगी। कुछ अन्य सेवाओं को भी ऑनबोर्ड किए जाने पर विचार किया जा रहा है। ऑन बोर्ड सुविधाएं उपलब्ध कराने वाले कर्मियों को कोच मित्र नाम दिया गया है। खूबसूरत चादर व तौलिया रेलगाड़ियों में फिलहाल सफेद चादरें और तौलिए दिए जाते हैं। मगर अब राजधानी और शताब्दी में डिजाइनर और ¨पट्रेड चादरें व तौलिए दिए जाएंगे। ये इन प्रीमियम रेल गाड़ियों को दूसरी गाड़ियों से अलग भी करेंगे।

राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में यात्र का अनुभव बदलने के लिए इन ट्रेनों के गेट के करीब खूबसूरत विनायल की परत लगायी जाएगी। साथ ही वह गाड़ी जिस रूट से गुजरेगी उस रूट पर पड़ने वाले मशहूर शहर से जुड़ी कलाकृति और पेंटिंग भी लोगों को लुभाएगी। इन गाड़ियों के बाहर बोर्ड लगा होगा जिस पर गंतव्य की जानकारी होगी, उस पर भी विनायल रै¨पग की जाएगी। इससे देखने में यह खूबसूरत लगेगा।

cctv cameras fb

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.