Railway to Bring Give it Up Scheme for passengers

| July 6, 2017

सब्सिडी छोड़ने को रेलवे भी ला रही ‘गिव इट अप’ स्कीम

नई दिल्ली : एलपीजी की तरह सरकार रेलवे टिकटों में भी ‘गिव इट अप सब्सिडी’ स्कीम लागू करेगी। फरीदाबाद के एक यात्री के सुझाव पर रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने अगले हफ्ते से इस स्कीम को लागू करने के निर्देश रेलवे बोर्ड को दिए हैं। एलपीजी की गिव इट अप स्कीम के तहत लगभग एक करोड़ उपभोक्ताओं ने सब्सिडी का त्याग किया है। रेलवे को उम्मीद है कि उसकी स्कीम को भी ऐसा ही समर्थन मिलेगा।








स्कीम के तहत रेल यात्रियों को आरक्षण के वक्त सब्सिडी छोड़ने का विकल्प दिया जाएगा। ऑनलाइन बुकिंग में आइआरसीटीसी की वेबसाइट पर यात्री से पूछा जाएगा कि क्या वह सब्सिडी छोड़ने का इच्छुक है। यदि ‘हां’ का विकल्प अपनाया गया तो निर्धारित किराये में सब्सिडी की राशि अतिरिक्त रूप से जुड़ जाएगी। यह स्कीम केवल उन्हीं लोगों पर लागू होगी तो इसे स्वेच्छा से अपनाना चाहेंगे। जो लोग सब्सिडी नहीं छोड़ना चाहते अथवा जिनकी स्थिति सब्सिडी छोड़ने की नहीं हैं, उनसे कोई अतिरिक्त रकम नहीं वसूली जाएगी।




वे पहले की तरह सरकार से प्राप्त वित्तीय सहायता का उपयोग करते रहेंगे। इस स्कीम का आइडिया फरीदाबाद के एक बुजुर्ग अवतार कृष्ण खेर के पत्र से मिला है। यह पत्र उन्होंने 12 जून को रेलमंत्री सुरेश प्रभु को लिखा था। पत्र में खेर ने प्रभु के समक्ष सब्सिडी छोड़ने का प्रस्ताव रखा है। उन्होंने लिखा है कि पिछले दिनों राजधानी एक्सप्रेस से जम्मू जाने और वापस आने के दौरान उन्हें यह जानकर पीड़ा हुई कि आम यात्री रेलवे पर 43 फीसद बोझ डालता है। जबसे वे घर लौटे हैं, इसे लेकर दुखी हैं।




खेर ने लिखा है कि वरिष्ठ नागरिक का दर्जा देने के लिए वे सरकार की प्रशंसा करते हैं। परंतु उनका व्यक्तिगत रूप से मानना है कि सक्षम लोगों को वित्तीय सहायता नहीं दी जानी चाहिए। पत्र के साथ खेर ने 950 रुपये का एक चेक भी भेजा है। और लिखा है कि यह राशि रेलवे ने मुझसे नहीं ली। इसलिए मैं इसे लौटा रहा हूं। मैं और मेरी पत्नी जब कभी भी यात्र करेंगे वित्तीय सहायता का लाभ नहीं लेंगे। गौरतलब है कि सब्सिडी के कारण ही रेलवे को हर साल यात्री सेवाओं पर लगभग 3500 करोड़ रुपये का घाटा होता है। लेकिन मजबूरी के चलते रेलवे यात्रियों से पूरा किराया नहीं वसूलती।’

>सब्सिडी छोड़ने पर लंबी दूरी की ट्रेनों में 43 फीसद व लोकल में 63 फीसद ज्यादा पड़ेगा किराया

>आइआरसीटीसी की वेबसाइट पर यात्री से सब्सिडी छोड़ने की इच्छा के बारे में पूछा जाएगासब्सिडी छोड़ने से बढ़ा किराया

>लंबी दूरी की ट्रेनों में 43 फीसद सब्सिडी छोड़नी होगी।

>यदि किराया 570 रुपये हुआ तो सब्सिडी छोड़ने से 430 रुपये बढ़कर 1000 रुपये हो जाएगा।

>उपनगरीय (लोकल) ट्रेनो में सब्सिडी की राशि 63 फीसद है।

>लोकल में यदि टिकट 3.70 रुपये का है तो सब्सिडी छोड़ने पर 6.30 रुपये बढ़कर 10 रुपये का होगा।

give it up st

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.