रेलवे की एसी श्रेणी में खानपान पर 18 फीसदी कर

| July 2, 2017

रेलवे की वातानुकूलित श्रेणी में अनाधिकृत रूप से सफर करने वाले रेल यात्रियों पर जीएसटी की दोहरी मार पड़ेगी। पकड़े जाने पर यात्री को किराया, जुर्माना के साथ 5 फीसदी जीएसटी देनी होगी। इसमें किराये और जुर्माने पर 5 फीसदी जीएसटी अलग-अलग लगाई जाएगी।









रेल मंत्रालय राजधानी शताब्दी, दूरतों समेत मेल-एक्सप्रेस और सुपरफास्ट ट्रेनों के वातानुकुलित श्रेणी में भी खानपान सेवा पर 18 फीसदी जीएसटी लागू करने का निर्णय लिया है। एक दिन पहले मेल एक्स्प्रेस के एसी श्रेणी में 12 फीसदी जीएसटी लगाने का आदेश जारी किया था। पर अब नए आदेश में जहां भी वातानूकूलन या हिटिंग का इंतजाम है वहां खानपान पर 18 फीसदी की दर से जीएसटी लगाने का फैसला लिया गया है।




रेल मंत्रलय ने शुक्रवार को सभी जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों और आईआरसीटीसी के सीएमडी को उक्त आदेश जारी कर दिए हैं। इसमें साफ उल्लेख है कि अब मेल-एक्सप्रेस, सुपरफास्ट ट्रेनों के एसी क्लास में खानपान सेवा पर 18 फीसदी जीएसटी लगेगा।




अब वातानुकूलित श्रेणी में किसी भी ट्रेन में यात्र करने वाले लोगों की चाय, नास्ता और खाने के लिए ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ेगी।हालांकि स्टेशनों पर रेलवे स्टॉल, गैर वातानुकूलित खानपान यूनिट व स्लीपर क्लास के केटरिंग में 12 फीसदी जीएसटी लगाया जाएगा।

18 percent fb

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.