Railway to provide safety features to its old coaches through PPP model

| June 11, 2017

यात्री डिब्बों को सुरक्षित बनाने में निजी क्षेत्र की मदद लेगा रेलवे, चालीस हजार पुराने यात्री डिब्बों में एलएचबी जैसे नए सीबीसी लगेंगे

 नई दिल्ली : पुरानी यात्री बोगियों को एलएचबी बोगियों की भांति सुरक्षित बनाने के लिए रेलवे निजी क्षेत्र की मदद लेगा।1पिछले रेल बजट में राष्ट्रीय रेल संरक्षा कोष के एलान के साथ ही रेलवे का जोर ट्रेन हादसों पर अंकुश के साथ जानमाल की क्षति को न्यूनतम करने पर है।








आंकड़े बताते हैं कि विकसित देशों के मुकाबले भारत में ट्रेन हादसे तो कम हैं, परंतु हादसों में मरने और घायल होने वालों की संख्या बहुत ज्यादा होती है। लिहाजा अन्य नवीकरण और रखरखाव पर ध्यान देने के अलावा बोगियों को ज्यादा से ज्यादा सुरक्षित बनाने पर जोर दिया जा रहा है। इसके लिए एलएचबी बोगियों को आदर्श मानते हुए भारतीय रेल में इस्तेमाल हो रही 40 हजार के करीब पुरानी आइसीएफ बोगियों को एलएचबी बोगियों की भांति सुरक्षित बनाने के लिए इनमें एलएचबी टाइप के सेंट्रल बफर कपलर (सीबीसी) लगाने की योजना पर काम शुरू हो गया है।




इसके तहत चालू वित्तीय वर्ष के दौरान 2000 बोगियों में सीबीसी लगाए जाएंगे। इसी तरह अगले साल 5000 बोगियों और उसके बाद 7000 बोगियों में यही काम होगा। इसी तरह क्रमिक बढ़ोतरी के साथ अगले पांच वर्षों में सभी चालीस हजार बोगियों के कपलर बदल दिए जाएंगे।1इसी के साथ एक और काम भी होगा, जिसे निजी क्षेत्र के साथ विचार-विमर्श के बाद हाल ही में कार्यक्रम का हिस्सा बनाया गया है।

इन चालीस हजार बोगियों की आंतरिक साज-सज्जा को भी संवारा जाएगा। रेलवे बोर्ड के एक अधिकारी के अनुसार, ‘आइडिया यह है कि जब कपलर के रीट्रोफिटमेंट के लिए एक बार बोगी वर्कशाप में आएगी तो फिर लगे हाथ उसमें अन्य जरूरी सुधार भी कर लिए जाएं। क्योंकि ये चालू बोगियां हैं जिन्हें उपयोग से हटाकर वर्कशाप में सुधारा जाएगा।’




इस योजना में पीपीपी मॉडल के तहत निजी क्षेत्र को भागीदार बनाया जाएगा। इसके लिए किराया वृद्धि के रूप में धन के इंतजाम का उपाय भी सोच लिया गया है। 1अधिकारियों का मानना है कि जब कोच हर तरह से बेहतर होंगी और यात्रियों को सुरक्षित और आरामदेह यात्र का अहसास होगा तो वे कुछ अतिरिक्त किराया देने को सहर्ष तैयार हो जाएंगे।

yatri dibbe

Source:- Dainik Jagran

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.